शगुन स्कीम, इलाज, पेंशन का ले सकते है मुफ्त लाभ:एडीसी ने कहा- निर्माण मजदूर सरकारी स्कीमों का लाभ लेने को सेवा केंद्र से कराएं रजिस्ट्रेशन

नवांशहर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सहायक कमिशनर (ज) दीपांकर गर्ग ने जिला शहीद भगत सिंह नगर से संबंधित निर्माण मजदूरों को पंजाब बिल्डिंग एंड अंडर कंस्ट्रक्शन वर्कस वेलफेयर बोर्ड के तहत लाभार्थी के तहत रजिस्टर्ड होने के लिए नजदीकी सेवा केंद्रों में संपर्क करने के लिए कहा है। रजिस्ट्रेशन के लिए अपने व परिवार के सदस्यों के आधार कार्ड, फोटो व बैंक खाते की कापी जरूरी है।

उन्होंने लोक निर्माण विभाग, पावरकॉम, जल सप्लाई व सैनिटेशन, ड्रेनज विभाग, मंडी बोर्ड, पंचायत राज के कार्यकारी इंजीनियर व नगर कौंसिलों के कार्यकारी अफसर को उनके संपर्क में आते निर्माण मजदूरों को जागरूक करके, उनकी रजिस्ट्रेशन करने के लिए कहा है। किरत विभाग से संबंधित बोर्ड की अलग-अलग भलाई स्कीमों का लाभ लेने के लिए बोर्ड के अधीन रजिस्टर्ड होना जरूरी है।

निर्माण के काम से संबंधित किरती जिसमें राज मिस्त्री, ईंटें-सीमेंट पकड़ने वाले मजदूर, पलंबर, तरखान, वेल्डर, इलेक्ट्रिशन, तकनीकी, क्लैरीकल, काम करने वाले, किसी सरकारी, अर्धसरकारी या प्राइवेट संस्थान में इमारतें, सड़कें, नहरें, बिजली के उत्पादन या वितरण, टैलीफोन, तार, रेडियो, रेल, हवाई अड्डे आदि के उसारी, मरम्मत के काम करने वाले उसारी किरती रजिस्ट्रेशन के लिए योग्य हैं। सहायक कमिशनर ने बताया कि निर्माण मजदूर की उम्र 18 वर्ष से 60 वर्ष के मध्य होनी चाहिए। रजिस्टर्ड लाभार्थी बनने के लिए उसारी किरती ने पिछले 12 महीनों के दौरान कम से कम 90 दिन बतौर उसारी किरती का काम किया हो।

रजिस्टर्ड होने के लिए उसारी मजदूर अपने नजदीक के किसी भी सेवा केंद्र में संपर्क कर सकते है तथा अपने रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए अपना व अपने परिवार के आधार कार्ड, बैंक खाते की पासबुक, पारिवारिक सदस्यों की पासपोर्ट साइज फोटो, लाभार्थी की अपनी पासपोर्ट साइज फोटो, ठेकेदार का नाम व फोन नंबर जरूरी होगा।

लेबर एनफोर्समेंट अफसर रणदीप सिंह सिद्धू ने बताया कि निर्माण मजदूर बोर्ड से रजिस्टर्ड करवाने के बाद बोर्ड की भलाई स्कीमें जिसमें पढ़ रहे बच्चों के लिए वजीफा स्कीम, बेटी की शादी के लिए शगुन स्कीम, एक्सग्रेशिया स्कीम, संस्कार के लिए राशि, प्रसूता लाभ स्कीम, बालड़ी तोहफा स्कीम, बीमारी आदि के लिए इलाज के लिए वित्तीय सहायता का लाभ लेने के योग्य हो जाता है। इसके अलावा लाभार्थी 60 वर्ष की उम्र के बाद बोर्ड की ओर से पैंशन लेने का हकदार भी बन जाता है।

खबरें और भी हैं...