पुलिस की सफाई- आरोप बेबुनियाद:बहराम थाने में लगी ईंटों के पैसे लेने को धरना

नवांशहर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एसएसपी दफ्तर के गेट पर बोरी बिछा धरने पर बैठा विजय कुमार। - Dainik Bhaskar
एसएसपी दफ्तर के गेट पर बोरी बिछा धरने पर बैठा विजय कुमार।

चार साल पहले सन् 2018 में बनी थाना बहराम की इमारत में इस्तेमाल हुई करीब 35 हजार ईंटों की पेमेंट पुलिस की ओर से बकाया बताते हुए खन्ना निवासी विजय कुमार मंगलवार सुबह एसएसपी दफ्तर के गेट पर बोरी बिछाकर बैठ गए। उन्होंने इस मामले में अपने साथ फाइनांशियल धोखाधड़ी होने की पूरी कहानी बयान करते हुए एक फ्लेक्स भी गले में डाल रखी थी। उनका कहना था कि उस समय थाना बहराम एसएचओ नरेश कुमारी ने उनकी पत्नी के नाम पर चल रहे भट्ठे से 35 हजार ईंट उठवाई थी, जो थाना बहराम की नींवों में लगी हुई है। इस ईंट का कुल एक लाख 65 हजार रुपया आज भी बकाया है।

इसके अलावा उनके साथ आर्थिक धोखाधड़ी भी हुई। कुछ लोगों की ओर से उनके नाम पर जाली खाता भी खुलवाया गया, जिसकी जांच कर पुलिस को उन्हें इंसाफ दिलाना चाहिए। दफ्तर के बाहर धरने की खबर जैसे ही पुलिस अधिकारियों को लगी तो वहां हड़कंप मच गया। आनन-फानन में पुलिस कर्मचारी उन्हें लेकर एसपी सर्बजीत सिंह बाहिया के पास पहुंचे, जहां उन्होंने उसकी शिकायत सुनी।

वहीं, एसपी बाहिया ने बताया कि इस मामले में जांच की जा चुकी है तथा ये भट्ठा मालिकों का आपसी झगड़ा है। उन्होंने पहले ही एक शिकायत कर रखी है, जिसे जांच के बाद आईजी दफ्तर भेज दिया गया है। उधर, एसआई नरेश कुमारी का कहना है कि यह पूरी तरह से झूठा मामला है। वैसे भी थाने की इमारत पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन बनाती है, न कि कोई एसएचओ। ये भट्ठा मालिकों का अपना झगड़ा है तथा इस मामले में पहले भी शिकायत होकर फाइल हो चुकी है।

खबरें और भी हैं...