घरेलू उपभोक्ताओं को नोटिस की तैयारी:सिक्योरिटी मनी : पावरकॉम ने 300 कामर्शियल उपभोक्ताओं को भेजा नोटिस

नवांशहर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नवांशहर के 66 केवी स्टेशन पर लगे 11 केवी फीडर। - Dainik Bhaskar
नवांशहर के 66 केवी स्टेशन पर लगे 11 केवी फीडर।

प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले आम आदमी पार्टी के सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल द्वारा घोषित 300 यूनिट मुफ्त बिजली की गारंटी कब पूरी होगी, यह कहना मुश्किल है। फिलहाल तो सूबे की मान सरकार ने ज्यादा बिजली की खपत करने वाले उपभोक्ताओं को झटका देना शुरू कर दिया। उन्हें वर्ष 2019-20 और 2020-21 के बिजली बिल के औसत के डेढ़ महीने की बराबर राशि को सिक्योरिटी मनी के रूप में जमा करने के करीब 300 नोटिस जारी किए जा चुके हैं। पहले चरण में ये नोटिस कमर्शियल उपभोक्ताओं को जारी किए गए थे, लेकिन अब घरेलू उपभोक्ताओं को भी इसका झटका लगने वाला है।

तत्कालीन चन्नी सरकार के समय में पावरकॉम ने सिक्योरिटी मनी संबंधी फैसला किया था, परंतु विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सरकार के इशारे पर उसने इस फैसले को फाइलों में दबाकर रख लिया था। अब आम आदमी पार्टी की सरकार में सिक्योरिटी मनी संबंधी नोटिस निकालने शुरू कर दिए हैं। फिलहाल 300 से अधिक बड़े उपभोक्ताओं को नोटिस जारी किए जा चुके हैं, जबकि करीब 500 और को जारी करने की तैयारी है।

उधर नोटिस जारी किए जाने पर शहर के बड़े उपभोक्ताओं में आक्रोश है। वे कहते हैं कि सरकार बनते ही मुफ्त बिजली सुविधा की गारंटी पर इस सरकार ने अभी काम नहीं किया। सिक्योरिटी मनी के नाम पर माेटी राशि पावरकाॅम ने वसूलने के लिए नोटिस जारी कर दिए हैं। नोटिसों में साफ कहा गया है कि सिक्योरिटी रकम जमा होने पर ही उनका कनेक्शन जारी रहेगा। ये राशि उनके बिलों में भी जोड़कर भेजी जा रही है। वर्ष 2019-20 में अगर गर्मियों के पीक सीजन का आपका एक महीने का औसत बिल 5000 रुपए महीने का बनता है तो आपको 7500 रुपए की सिक्योरिटी मनी का नोटिस आएगा।

14 महीने बाद नई अधिसूचना पर काम शुरू
सरकार ने पावरकॉम के घाटे के सटीक कारणों का पता लगाने की बजाय 2019 में उपभोक्ताओं पर सिक्योरिटी मनी के रूप में बोझ डाल दिया था। इस आशय का नोटिफिकेशन जारी किए जाने के बाद सरकार ने साल 2019 में उपभोक्ताओं को नोटिस जारी किए थे, जिनमें घरेलू उपभोक्ता भी शामिल थे। तब इसका विरोध हुआ था और सरकार ने नोटिफिकेशन वापस ले लिया था। पावरकाॅम ने 27 अप्रैल 2021 को एक नई अधिसूचना जारी की और उपभोक्ताओं से एक महीने के औसत बिजली बिल के बराबर सिक्योरिटी राशि जमा करने के लिए फिर से आदेश जारी किए।

अधिकारियों ने एक साल से अधिक समय तक इस आदेश को फाइलों में दबाए रखा। अब 14 माह बाद जून में बड़े उपभोक्ताओं को सिक्योरिटी मनी जमा करने के लिए नोटिस जारी किए गए। उसके बाद घरेलू उपभोक्ताओं को भी उक्त म्‍शय के नाेटिस जारी करने की योजना है। एसडीओ सिटी गुरबख्श राम कहते हैं कि नोटिस विभाग की ओर से जारी निर्देशों पर ही भेजे जा रहे हैं। जिन भी उपभोक्ताओं की खपत तय लोड से ज्यादा है तथा उनकी सिक्योरिटी कम है, उन सभी को नोटिस भेजे जाएंगे।

शहर में कुल कनेक्शन - 22000 घरेलू कनेक्शन – 16,000 कामर्शियल कनेक्शन - 6000

खबरें और भी हैं...