• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Adhir Ranjan Chowdhury Tweet; Deleted After Pays Tributes To Rajiv Gandhi On Death Anniversary

कांग्रेस नेता के बयान से पंजाब में बवाल:अधीर रंजन ने लिखा राजीव गांधी का बयान; विरोधी बोले- सिखों के जख्मों पर नमक छिड़का

चंडीगढ़3 महीने पहले

लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी के एक ट्वीट से पंजाब में बवाल मच गया है। चौधरी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को श्रद्धांजलि दी। इसमें सिख विरोधी दंगों के वक्त राजीव गांधी की कही 'जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है' बात भी लिख दी। इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुए सिख विरोधी दंगों को लेकर राजीव गांधी ने यह बात कही थी।

इसको लेकर विवाद शुरू हो गया। इसके बाद भाजपा, पंजाब लोक कांग्रेस और अकाली दल कांग्रेस पर हमलावर हो गए। जिसके बाद चौधरी ने इस ट्वीट को डिलीट कर दिया। बाद में उन्होंने इस ट्वीट से पल्ला झाड़ लिया। चौधरी ने कहा कि उनका ट्विटर अकाउंट हैक हो गया था। उसी दौरान यह ट्वीट किया गया। उन्होंने इस संबंध में दिल्ली पुलिस के पास शिकायत भी दर्ज करवाई है।

मनजिंदर सिरसा का ट्वीट
मनजिंदर सिरसा का ट्वीट

नेहरू-गांधी परिवार की सिखों के प्रति नफरत : सिरसा
भाजपा नेता मनजिंदर सिरसा ने कहा कि चौधरी ने राजीव गांधी को पुण्यतिथि पर जो बात लिखी, वह शर्म और दुख की बात है। नेहरू-गांधी परिवार आज भी सिखों से इतनी नफरत करता है। यह कांग्रेस की मानसिकता को दर्शाता है। उनके अंदर इच्छाशक्ति जाग रही है कि किस तरह सिखों को मारा जाए। केंद्र सरकार को इसका संज्ञान लेना चाहिए। दिल्ली पुलिस को चौधरी पर केस दर्ज कर गिरफ्तार करना चाहिए। वह नफरत फैला रहे हैं।

शिरोमणि अकाली दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता परमबंस सिंह रोमाणा ने कहा कि हम इस कत्लेआम को कभी नहीं भूल सकते।
शिरोमणि अकाली दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता परमबंस सिंह रोमाणा ने कहा कि हम इस कत्लेआम को कभी नहीं भूल सकते।

वड़िंग बताएं, क्या वह चौधरी से सहमत हैं : पंजाब लोक कांग्रेस

कैप्टन अमरिंदर सिंह की पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस के प्रवक्ता प्रितपाल सिंह बलियावाल ने भी इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने सवाल उठाया कि क्या यह जरूरी था कि राजीव गांधी को सम्मान देने के लिए सिखों के जख्मों पर नमक छिड़का जाए। कांग्रेस के पंजाब प्रधान अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग को इसका जवाब देना चाहिए। वह चौधरी से सहमति हैं या नहीं, जो हजारों बेकसूर सिखों के कत्लेआम को जायज ठहरा रहे हैं।

प्रितपाल सिंह बलियावाल का ट्वीट
प्रितपाल सिंह बलियावाल का ट्वीट