• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ambulance Drivers Will Not Be Able To Take More Than Two And A Half Thousand For 25 Kilometers In Ludhiana, 5 Thousand Fixes With Ventilator Facility

संकट के बीच राहत की बात:लुधियाना में 25 किलोमीटर तक ढाई हजार रुपए से ज्यादा नहीं ले सकेंगे एंबुलेंस ड्राइवर, वेंटिलेटर की सुविधा के साथ 5 हजार फिक्स

लुधियाना7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लुधियाना में RTA संदीप सिंह गढ़ा और ACP ट्रैफिक गुरुदेव सिंह के साथ बैठक में उपस्थित एंबुलेंस ऑपरेटर्स। - Dainik Bhaskar
लुधियाना में RTA संदीप सिंह गढ़ा और ACP ट्रैफिक गुरुदेव सिंह के साथ बैठक में उपस्थित एंबुलेंस ऑपरेटर्स।

कोरोना महामारी के संकट और एंबुलेंस ऑपरेटर्स की मनमानी की खबरों के बीच राहत भरी खबर आई है। लुधियाना में मरीजों को लाने-ले जाने को लेकर एंबुलेंस ऑपरेटरों की मनमानी को रोकने के लिए प्रशासन ने नया फरमान जारी किया है। इस आदेश के मुताबिक अब 25 किलोमीटर तक की दूरी के लिए एंबुलेंस ऑपरेटर ढाई हजार रुपए से ज्यादा नहीं ले सकते। वेंटिलेटर सुविधा वाली एंबुलेंस वेन के लिए 25 किलोमीटर तक की दूरी का पांच हजार रुपए किराया तय किया गया है।

ध्यान रहे लुधियाना में कोरोना संक्रमण के प्रदेश में सबसे ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। इसी बीच सोमवार को जब श्मशान में ऑटो रिक्शा और साइकल रिक्शा पर शवों को देखा गया तो लुधियाना जिला प्रशासन की खूब किरकिरी हुई थी। पता चला कि कोरोना मृतक को श्मशान पहुंचाने के लिए एंबुलेंस नहीं मिली तो परिजन शव को ऑटो रिक्शा में लेकर ढोलेवाल स्थित श्मशान घाट पहुंच गए। कोरोना संक्रमित मरीज का शव देख ऑटो में देख वहां हड़कंप मच गया।

इसी के चलते मंगलवार को RTA संदीप सिंह गढ़ा और ACP ट्रैफिक गुरुदेव सिंह ने एंबुलेंस ऑपरेटरों की बैठक ली। इस बैठक में फैसला लिया गया कि अगर एंबुलेंस ऑपरेटर ज्यादा किराया वसूल करेंगे तो कार्रवाई की जाएगी। अब जिले में मरीजों को लाने-ले जाने के एवज में एंबुलेंस ऑपरेटर 25 किलोमीटर तक की दूरी के लिए ढाई हजार रुपए से ज्यादा नहीं ले सकते। इससे आगे प्रति किलोमीटर 12 रुपए के हिसाब से दिए जाएंगे। वेंटिलेटर सुविधा वाली एंबुलेंस वैन के लिए 25 किलोमीटर तक की दूरी का पांच हजार रुपए किराया तय किया गया है। इससे आगे मरीजों के परिवार को 25 रुपए प्रति किलोमीटर अतिरिक्त देने होंगे।

यह भी पढ़े

पंजाब में दयनीय हालात:कोरोना से मरने वालों को एंबुलेंस नहीं मिल रहीं; परिजन शव को ऑटो में या साइकिल रिक्शा में लेकर श्मशान घाट पहुंच रहे