पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Bathinda SI Did Not Deposit Rs 4 Lakh In Gamblers Caught, Retired; Case Registered After 14 Years

कोर्ट के आदेश पर हुई कार्रवाई:बठिंडा में SI ने नहीं कराए जुआरियों में पकड़े 4 लाख रुपए जमा, हो गया रिटायर; 14 साल बाद अब हुआ केस दर्ज

बठिंडा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बठिंडा मेंं कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने 14 साल पुराने एक मामले में SI के पद से रिटायर हो चुके एक शख्स के खिलाफ केस दर्ज किया है। - Dainik Bhaskar
बठिंडा मेंं कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने 14 साल पुराने एक मामले में SI के पद से रिटायर हो चुके एक शख्स के खिलाफ केस दर्ज किया है।

पंजाब पुलिस कितनी चुस्त है, इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 14 साल पुराने लापरवाही के एक मामले में अब जाकर FIR दर्ज की गई है। मामला 14 साल पहले जुआरियों से बरामद की गई 3.96 लाख रुपए की राशि को जमा नहीं कराए जाने का है। गजब की बात है कि मुलाजिम को रिटायर हुए भी बरसों बीत चुके हैं।

मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2007 में बठिंडा पुलिस ने छापा मारकर कुछ लोगों को जुआ खेलते पकड़ा था। उनके पास से 3 लाख 95 हजार 890 रुपए की नकदी बरामद की गई थी, लेकिन इस नकदी को पुलिस के मालखाने में जमा कराने की बजाय खुर्द-बुर्द कर दिया गया था। उस वक्त SI के पद कार्यरत अमृतपाल सिंह पर मामले का जांच अधिकारी था।

बताया जाता है कि जुआ खेलने के आरोप में पकड़े गए एक व्यक्ति ने अदालत से जमानत लेने के बाद पुलिस द्वारा पकड़ी गई नकदी को सुपुर्दी के लिए याचिका दायर की थी। जब अदालत ने मालखाने के अधिकारियों को बरामद नकदी अदालत में पेश करके उसे वापस करने के लिए कहा तो मालखाने के मुंशी ने अदालत को जबाव दिया कि इस मामले में कोई भी नकदी मालखाने में जमा नहीं करवाई गई है।

इसके बाद अदालत ने उस समय मामले के जांच अधिकारी और मौजूदा समय में रिटायर्ड ASI अमृतपाल सिंह को अदालत में बुलाकर पूछा कि उन्होंने पकड़ी गई जुए की नकदी मालखाने में जमा क्यों नहीं करवाई। इस पर अमृतपाल सिंह ने अदालत को बताया कि उन्होंने वर्ष 2007 में मालखाने के तत्कालीन मुंशी जोगिंदर सिंह के पास यह रकम जमा करवाई थी, लेकिन अब उसकी मौत हो चुकी है, इसलिए उन्हें इस पैसे के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

अमृतपाल का कहना है कि उन्होंने पैसे मालखाने में जमा करवा दिए थे। हालांकि अदालत ने पूरे मामले में अमृतपाल सिंह की लापरवाही मानते उसे 3.96 लाख रुपए की नकदी गायब होने का आरोपी माना है। इसके बाद थाना कोतवाली पुलिस को उनके खिलाफ मामला दर्ज करने के आदेश दिए गए है। पुलिस ने अदालत के आदेश पर कार्रवाई करते हुए अमृतपाल सिंह निवासी गांव कणकवाल के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

खबरें और भी हैं...