मजीठिया को जमानत पर भावुक बहन:​​​​​​​सांसद हरसिमरत बोलीं- अरदास के 15 मिनट बाद जमानत मिल गई; अब जेल नहीं घर में राखी बांधूंगी

चंडीगढ़4 महीने पहले

साढ़े 5 महीने से जेल में बंद भाई बिक्रम मजीठिया को जमानत मिलने पर बहन सांसद हरसिमरत कौर बादल भावुक हो उठी। वह सुबह ही अमृतसर स्थित दरबार साहिब में माथा टेकने पहुंच गई। उन्होंने कहा कि मैं सुबह ही अरदास कर राखी लेकर पटियाला जेल के लिए निकली थी।

मैंने अरदास की थी कि आज इस बहन को जेल में जाकर बेकसूर भाई को राखी बांधनी पड़ रही है। मुझ पर कृपा करो। 10-15 मिनट बाद ही मजीठिया को जमानत मिल गई। अब यह बहन किसी जेल में नहीं बल्कि हर साल की तरह घर में जाकर भाई राखी बांधेगी।

मजीठिया को जमानत मिलने पर हरसिमरत ने उनकी यह तस्वीर पोस्ट की।
मजीठिया को जमानत मिलने पर हरसिमरत ने उनकी यह तस्वीर पोस्ट की।

ओवरडोज से मरे बेटो और भाईयों को बचाए सरकार
हरसिमरत बादल ने कहा कि बिक्रम के नाम पर नशे की बात कर कुछ पार्टियों ने सियासत की। आज कितनी ही बहनों के भाई नशे की ओवरडोज से मर गए। उन बहनों के जीवन काल कितने सूने होंगे। सरकार को बताना चाहिए कि मजीठिया 8 महीने नहीं रहे तो नशे घटे या बढ़े?। मैं सरकार को कहूंगी कि अपनी बदलाखोरी बंद करो। मां के बेटों और बहनों के भाईयों को बचाओ। यह कहते थे कि मजीठिया नशा बेचता है तो फिर कैसे नशा बिक रहा है?। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने 2015 के बाद बदनाम किया।

मजीठिया के आने से मजबूत होगा अकाली दल
हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि मजीठिया के बाहर आने से अकाली दल को भी मजबूती मिलेगी। 2015 से ही विरोधियों ने चारों तरफ से अकाली दल को घेरा था। राज्य, पार्टी और धार्मिक स्थानों को घेर रहे थे। अब बिक्रम के आने से अकाली दल जमीन पर उतरकर विरोधियों को जवाब देगी। अकाली दल पंजाब और पंजाबियों के लिए सब कुछ कुर्बान करने को तैयार है। हमने तो केंद्र में कुर्सी और गठबंधन भी छोड़ दिया था।