पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अमृतसर में बन रहा कैंसर इंस्टीट्यूट:2 महीने में बनकर तैयार हो जाएगा अस्पताल, 150 बेड की सुविधा होगी, मरीजों को पीजीआई या दिल्ली नहीं जाना पड़ेगा

amritsar10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मेडिकल कॉलेज में बन रहे कैंसर इंस्टीट्यूट की निर्माणाधीन इमारत। - Dainik Bhaskar
मेडिकल कॉलेज में बन रहे कैंसर इंस्टीट्यूट की निर्माणाधीन इमारत।

पंजाब के अमृतसर जिले में मेडिकल कॉलेज में बन रहे स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट का काम 85 प्रतिशत खत्म हो चुका है। 150 बेड के इस इंस्टीट्यूट में लेटेस्ट टेक्नोलॉजी, एडवांस ऑपरेशन थिएटर और एडवांस मशीनों की सहायता से कैंसर पीड़ितों का इलाज किया जाएगा। मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च मिनिस्टर ओम प्रकाश सोनी ने जानकारी दी है कि यह इंस्टीट्यूट अगले दो माह में बनकर तैयार हो जाएगा।

केंद्र व पंजाब सरकार ने इंस्टीट्यूट के निर्माण प्रस्ताव पर 2014 में सहमति की मुहर लगाई थी। फिर कुछ कागजी कार्रवाई पूरी करने में ही 3 साल से अधिक का वक्त लग गया। यह इंस्टीट्यूट लगभग 120 करोड़ रुपए में तैयार हो रहा है। लागत राशि में 70 प्रतिशत केंद्र सरकार खर्च कर रही है और 30 प्रतिशत पंजाब सरकार दे रही है। बिल्डिंग के निर्माण के लिए 3902 लाख रुपये खर्च किए जा रहे हैं।

इंस्टीट्यूट में कैंसर के आधुनिक उपचार के लिए स्पेशलिस्ट डॉक्टर उपलब्ध रहेंगे। इसके शुरू होने से पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर के मरीजों को फायदा मिलेगा। इससे पहले जीएनडीएच में मात्र रेडियोथैरेपी या कीमोथैरेपी की सुविधाएं हैं। ऑपरेशन व अन्य इलाज के लिए मरीज या तो प्राइवेट अस्पतालों में जाते थे या उन्हें पीजीआई चंडीगढ़ का रुख करना पड़ता था।

कई विभाग बनने हैं इस इंस्टीट्यूट में

स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट में न्यूक्लियर मेडिसिन विभाग, सर्जिंकल एनकोलॉजी, डायग्नोस्टिक सेंटर, रेडियोथैरेपी विभाग, मेडिकोलॉजिस्ट विभाग, गाइनोकोलॉजी विभाग, ईएनटी विंग, हेड एंड नेक, सर्जिकल के अलावा कैंसर से संबंधित विभाग बनने हैं। यहां मेल-फीमेल वार्ड अलग से बनाए जाएंगे।

कोरोना के कारण हुआ लेट

स्टेट कैंसर इंस्टीट्यूट के एक फेज का काम जून 2021 में खत्म हो जाने का अनुमान था। लेकिन कोरोना के कारण देरी हो गई। अनुमान है कि दो माह में बिल्डिंग का काम पूरा हो जाने के बाद अक्टूबर अंत तक यह इंस्टीट्यूट मरीजों को सुविधाएं देना शुरु कर देगा।