• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Captain Navjot Sidhu And Ravneet Bittu, Who Reached Delhi After Flying To Meet Sonia Gandhi, Tweeted On The Tweet

पंजाब कांग्रेस की रार का हल निकालने की कोशिश:सोनिया गांधी से मिलने उड़कर दिल्ली पहुंचे कैप्टन, नवजोत सिद्धू और रवनीत बिट्‌टू ने किए ट्वीट पर ट्वीट

नई दिल्ली/चंडीगढ़4 महीने पहले
कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह।

पंजाब कांग्रेस में चल रहे घमासान का हल निकालने के लिए पार्टी के तमाम नेता प्रयारत हैं। इसी बीच प्रदेश के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह एक बार दिल्ली दरबार में पहुंच गए हैं। पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने के लिए कैप्टन मंगलवार को चॉपर से दिल्ली गए, जहां शाम करीब 4 बजे उनकी मुलाकात सोनिया से हुई है। पिछले कुछ दिनों में यह तीसरी बार है, जब कैप्टन एक ही मसले को लेकर दिल्ली पहुंचे हैं। दूसरी ओर कैप्टन के विरोधी माने जाते उनकी अपनी ही पार्टी के नेता नवजोत सिंह सिद्धू और पक्ष में खड़े रवनीत सिंह बिट्‌टू ने भी एक के बाद एक कई ट्वीट किए।

बता दें कि पंजाब में अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच लंबे समय से विवाद चला आ रहा है। मामले को हल करने के लिए कांग्रेस आलाकमान ने तीन सदस्यों की एक कमेटी भी बनाई थी, जिसके सामने सिद्धू और अमरिंदर सिंह दोनों पेश हुए थे। कमेटी ने राज्य के और भी कई विधायकों और सांसदों से भी बात की थी। इसके बाद सिद्धू ने राहुल और प्रियंका गांधी से भी मुलाकात की थी। मंगलवार को एक बार फिर सोनिया गांधी और अमरिंदर सिंह की मुलाकात हुई। माना जा रहा है कि नवजोत सिद्धू को पंजाब कांग्रेस में बड़ा पद मिल सकता है। हालांकि बीते दिनों उठी प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने की बात को कैप्टन ने सिरे से खारिज कर दिया था। सूत्रों के मुताबिक पंजाब में सिद्धू को बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है, इसके लिए मुख्यमंत्री को भी साथ लाने की कांग्रेस की कोशिशों के मद्देनजर इस मुलाकात को देखा जा रहा है। दोनों के बीच तकरार को देखते हुए आलाकमान दोनों को ही सम्मानजनक तरीके से साधना चाहता है। कैप्टन अगर भारी हैं तो हल्का पलड़ा सिद्धू का भी नहीं है।

सिद्धू ने फिर उठाया PPA का मुद्दा

एक बार फिर बिजली के मसले पर सवाल उठाते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने ट्वीट किया है कि दोषपूर्ण PPA पर पंजाब ने हजारों करोड़ खर्च किए हैं। PPA पर हस्ताक्षर करने से पहले ही कोल-वाशिंग शुल्क के रूप में 3200 करोड़ का भुगतान किया है। निजी संयंत्र मुकदमा दायर करने के लिए कमियां ढूंढते रहते हैं, जिसकी लागत पंजाब में पहले से ही 25,000 करोड़ है। PPA बादल परिवार के भ्रष्टाचार का एक और उदाहरण है। विधानसभा में इस पर नया विधान और श्वेत पत्र ही न्याय का इकलौता रास्ता है।

जब हाईकमान के सामने अपनी बात रखा दी तो प्रतिक्रिया का इंतजार तो करो: बिट्‌टू

उधर, लुधियाना के सांसद रवनीत सिंह बिट्‌टू ने भी ट्वीट करके भड़ास निकाली है। उन्होंने लिखा है, 'पार्टी में अनुशासनहीनता के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए। पार्टी को नुकसान पहुंचाने वाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए, चाहे मैं हो या कोई भी। जो लोग पसंद नहीं करते, वो पार्टी छोड़ सकते हैं।

एक अन्य ट्वीट में बिट्‌टू ने लिखा है, 'सिद्धू एक मशहूर चेहरा हैं। वह जब चाहे आलाकमान से कई बार मिल चुके हैं। अब जब आपने (सिद्धू) हाईकमान को अपनी बात कह दी है तो अब बचा क्या है। हमें प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा करनी चाहिए, लेकिन अपनी ही पार्टी को नुकसान पहुंचाना ठीक नहीं है।

खबरें और भी हैं...