• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Bhagwant Mann Germany Airport Controversy; Jyotiraditya Scindia Lufthansa Airlines | Punjab News

DGCA करेगा पंजाब CM को विमान से उतारने की जांच:केंद्रीय उड्‌डयन मंत्री ने कहा- लुफ्थांसा एयरलाइंस से मांगी जाएगी जानकारी

चंडीगढ़5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब के CM भगवंत मान को जर्मनी में लुफ्थांसा एयरलाइंस की फ्लाइट से उतारने के मामले की केंद्र सरकार जांच कराएगी। केंद्रीय उड्‌डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि इस पूरे घटनाक्रम की डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) ओर से जांच की जाएगी। लुफ्थांसा एयरलाइंस से भी जानकारी मांगी जाएगी ताकि पता चल रहे कि CM भगवंत मान को किन कारणों के चलते फ्लाइट से उतारा गया।

जर्मनी के आधिकारिक दौरे पर गए पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को 17 सितंबर को वहां के फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर विमान से उतार दिया गया था। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भगवंत मान उस समय नशे की हालत में थे। उनका सामान वगैरह उतारने की वजह से फ्लाइट 4 घंटे लेट हो गई। हालांकि लुफ्थांसा एयरलाइंस इससे इनकार कर चुकी है।

यह पूरा विवाद सामने आने के बाद शिरोमणि अकाली दल और कांग्रेस पार्टी भगवंत मान और केजरीवाल से पूरे मामले पर सफाई की मांग कर चुकी हैं। सुखबीर बादल ने ट्विटर पर लिखा था कि भगवंत मान की वजह से दुनियाभर के पंजाबियों को शर्मिंदगी उठानी पड़ी।

11 सितंबर को जर्मनी गए मान

भगवंत मान 11 सितंबर को जर्मनी गए थे। जर्मनी में उन्होंने म्यूनिख, फ्रैंकफर्ट और बर्लिन का दौरा कर कारोबारियों से पंजाब में निवेश को लेकर मुलाकातें कीं। वह दुनिया के प्रमुख व्यापार मेले, ड्रिंकटेक 2022 में भी शामिल हुए। उनके साथ उनकी पत्नी और सुरक्षाकर्मियों के अलावा पंजाब सरकार के कई वरिष्ठ अधिकारी भी थे।

दोपहर की जगह शाम को उड़ी फ्लाइट

भगवंत मान को 17 सितंबर को जर्मनी से दिल्ली लौटना था। आरोप हैं कि मान के नशे में होने की वजह से उन्हें फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर लुफ्थांसा एयरलाइंस के विमान से नीचे उतार दिया गया। लुफ्थांसा एयरलाइंस की वेबसाइट के मुताबिक इस विमान को फ्रैंकफर्ट से शनिवार दोपहर 1.40 बजे रवाना होकर 12.55 बजे दिल्ली में लैंड करना था। मगर विमान 4 घंटे की देरी से शाम 5.52 बजे फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट उड़ान भर पाया। ये फ्लाइट सोमवार सुबह 4.30 बजे दिल्ली एयरपोर्ट पर लैंड हुई।

यात्रियों ने कहा- मान नशे में थे

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस फ्लाइट के कई यात्रियों ने बताया कि भगवंत मान ने इतनी शराब पी रखी थी कि वह ठीक से चल भी नहीं पा रहे थे। उनकी पत्नी और सुरक्षाकर्मी उन्हें संभाल रहे थे। इसी वजह से एयरलाइंस के क्रू ने सुरक्षा का हवाला देते हुए मान को नीचे उतार दिया। मान के स्टाफ ने उन्हें न उतारे जाने की कोशिश की लेकिन फ्लाइट का स्टाफ रिस्क नहीं लेना चाहता था।

एक अन्य यात्री ने कहा कि इस पूरे वाकये के चलते फ्लाइट 4 घंटे लेट हुई। सोशल मीडिया पर इसे लेकर CM भगवंत मान की खूब आलोचना हुई।

बर्लिन में 15 सितंबर को जर्मन एग्रीबिजनेस अलायंस और इसकी सदस्य कंपनियों के अधिकारियों के साथ CM मान ने कृषि व्यवसाय पर चर्चा की।
बर्लिन में 15 सितंबर को जर्मन एग्रीबिजनेस अलायंस और इसकी सदस्य कंपनियों के अधिकारियों के साथ CM मान ने कृषि व्यवसाय पर चर्चा की।

AAP ने कहा- यह खबर झूठी, तबीयत ठीक नहीं थी

इस पूरे विवाद के बीच AAP के मीडिया कम्युनिकेशन के निदेशक चंदर सुता डोगरा ने बताया कि CM की तबीयत ठीक नहीं थी। इसी वजह से 17 सितंबर की जगह वह 18 तारीख को जर्मनी से दिल्ली रवाना हुए। AAP और CM कार्यालय के मीडिया प्रभारी नवनीत वाधवा ने भगवंत मान को विमान से उतारे जाने की खबरों को खारिज करते हुए कहा कि यह सब फालतू बाते हैं। CM के तय कार्यक्रम के मुताबिक उन्हें 18 सितंबर तक जर्मनी में रहना था।

सुखबीर बादल बोले- मान और केजरीवाल सफाई दें

शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल के मुताबिक, पंजाब के CM भगवंत मान को लुफ्थांसा फ्लाइट से उतारा गया, क्योंकि वह नशे में थे। इस वजह से फ्लाइट 4 घंटे देरी से उड़ान भर पाई। भगवंत मान के इस तरह के रवैये की वजह से दुनियाभर के पंजाबियों को शर्मिंदा होना पड़ा।

बाजवा कर चुके केंद्र से जांच की मांग

पंजाब विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता और कांग्रेस के विधायक प्रताप सिंह बाजवा ने इस पूरे मामले को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए केंद्र सरकार से जांच की मांग की है। बाजवा ने केंद्रीय उड्‌डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से आग्रह किया कि लुफ्थांसा एयरलाइंस से इस पूरे मामले पर आधिकारिक जानकारी मांगी जाए।