अमृतसर में वैक्सीनेशन की किल्लत:ग्रामीण और शहरी अस्पतालों समेत सभी केंद्रों पर 1 बजे तक खत्म हुआ स्टॉक, मात्र 9500 डोज ही पहुंची थीं

अमृतसरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वैक्सीनेशन रजिस्ट्रेशन के लिए लाइन में लगे लोग। - Dainik Bhaskar
वैक्सीनेशन रजिस्ट्रेशन के लिए लाइन में लगे लोग।

कोरोना वैक्सीनेशन के लिए लोग अब तैयार हैं, लेकिन सरकार वैक्सीन की सप्लाई पूरी नहीं दे पा रही है। अमृतसर में अधिकतर सेंटरों पर आधे दिन में ही डोज खत्म हो रही है। लेकिन रजिस्ट्रेशन करवाने वालों की लाइनें लंबी हैं। शुक्रवार देर रात शहर में 9500 डोज पहुंची थीं। जिसे शनिवार सुबह सभी केंद्रों में भेज दिया गया। आलम यह है कि वैक्सीनेशन का पता लगते ही लंबी कतारों में लोग लग गए और वैक्सीन आधे दिन में खत्म हो गई।

वैक्सीन को डिमांड के अनुसार विभिन्न केंद्रों में भेज दिया गया था। अधिकतर अस्पतालों में 500 डोज डिस्ट्रीब्यूट की गई थीं। लेकिन ग्रामीण अस्पतालों में डोज 12 बजे खत्म हो गई थी। यही हालात शहर के अस्पतालों के भी थे। शहर के सभी अस्पतालों में डोज 1 बजे तक खत्म हो चुकी थी। रणजीत एवेन्यू सैटेलाइट अस्पताल की बात करें तो यहां 500 डोज आई थी और 11 बजे तक 250 डोज लग चुकी थी। 1 बजे डोज खत्म हो गई और रजिस्ट्रेशन करा चुके 200 से अधिक लोगों को वापस लौटना पड़ा।

100 प्रतिशत का टार्गेट है अभी दूर

सेहत विभाग के आंकड़ों के अनुसार, 18 से ऊपर की उम्र तक के लोगों की संख्या 18 लाख है। जिनमें से वीरवार तक 6,99,838 लोगों को वैक्सीनेशन लग चुकी है। स्पष्ट है कि सेहत विभाग के लिए 100 प्रतिशत टार्गेट हासिल करना आसान नहीं है। शुक्रवार शाम तक सेहत विभाग ने 38.87 प्रतिशत टार्गेट ही पूरा किया है।

अमृतसर को अन्य शहरों से कम मिल रही वैक्सीनेशन

वैक्सीनेशन की बात करें तो अमृतसर को इस समय अन्य शहरों से कम वैक्सीन मिल रही है। शुक्रवार को लुधियाना को 18 हजार तो जालंधर को 15 हजार डोज दी गई। लेकिन अमृतसर के खाते में मात्र 9500 डोज ही आई। अमृतसर को गुरदासपुर और होशियारपुर से भी कम डोज मिल रही है।

शुरुआत में हुई वैक्सीनेशन पर आधारित है डिस्ट्रीब्यूशन

जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. रेणु भाटिया ने बताया कि शहरों की वैक्सीन का मिलना शुरुआती दिनों में हुए टीकाकरण पर आधारित है। लुधियाना के लोगों ने शुरु से ही वैक्सीनेशन में रुझान दिखाया। जिस कारण उन्हें आज तक अधिक वैक्सीनेशन मिल रही है। अमृतसर में शुरु में लाेग वैक्सीनेशन से कतराते रहे। विभाग को लिखा ई-मेल भेजी है। जिसमें उन्होंने बढ़ रही डिमांड के अनुसार वैक्सीन भेजने के लिए कहा है।

खबरें और भी हैं...