पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Farmer Father son Committed Suicide In Dasuha In Punjab, Modi Government Responsible According To Suicide Note

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कृषि कानूनों के विरोध में सुसाइड:पंजाब में किसान पिता-पुत्र ने आत्महत्या की, सुसाइड नोट में लिखा- मोदी सरकार धोखा कर रही

होशियारपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आत्महत्या करने वाले किसान कृपाल सिंह का फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
आत्महत्या करने वाले किसान कृपाल सिंह का फाइल फोटो।

कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन को 87 दिन हो गए हैं। इस बीच किसानों के आत्महत्या करने का सिलसिला रुक नहीं रहा। पंजाब के एक किसान परिवार में पिता-पुत्र ने शुक्रवार को सुसाइड कर लिया। शनिवार को सामने आया यह मामला होशियारपुर जिले के मुहद्दीपुर गांव का है। जो सुसाइड नोट मिला है, उसमें मोदी सरकार के साथ-साथ पंजाब की अमरिंदर सरकार को भी जिम्मेदार ठहराया गया है।

पिता-पुत्र ने आत्महत्या करने से पहले पंजाबी में सुसाइड नोट लिखा था।
पिता-पुत्र ने आत्महत्या करने से पहले पंजाबी में सुसाइड नोट लिखा था।

मृतकों की पहचान नंबरदार जगतार सिंह और उनके बेटे कृपाल सिंह के रूप में हुई है। इनके परिजन की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और सुसाइड नोट बरामद किया। इसमें लिखा है, 'मोदी सरकार किसानों के साथ धोखा कर रही है। कृषि कानूनों ने किसानों को बर्बाद कर दिया है। मोदी सरकार उनकी एक बात नहीं सुन रही। कैप्टन सरकार ने भी हमारा कर्ज माफ नहीं किया है। हम तंग आ गए हैं, अब जीना नहीं चाहते। इसलिए हम खुदकुशी कर रहे हैं।'

किसान आंदोलन में अब तक 200 से ज्यादा मौतें
किसान 26 नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे हैं। इसके साथ ही अलग-अलग राज्यों में भी प्रदर्शन चल रहे हैं। किसान आंदोलन में शामिल हुए 200 से ज्यादा लोगों की अब तक अलग-अलग वजहों से मौत हो चुकी है। इनमें से कुछ ने आत्महत्या कर ली तो कई किसानों की मौत हार्ट अटैक, ठंड लगने और हादसों की वजह से हो गई।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय चुनौतीपूर्ण है। परंतु फिर भी आप अपनी योग्यता और मेहनत द्वारा हर परिस्थिति का सामना करने में सक्षम रहेंगे। लोग आपके कार्यों की सराहना करेंगे। भविष्य संबंधी योजनाओं को लेकर भी परिवार के साथ...

और पढ़ें