पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फिटनेस हो तो जगतार सिंह जैसी:98 की उम्र में भी रोज लगाते हैं दौड़; 90 साल का होने के बाद जीते 6 गोल्ड मेडल, 50 साल से नहीं खाई कोई दवाई

फिरोजपुर6 दिन पहलेलेखक: महेंद्र घणघस
  • कॉपी लिंक
जगतार सिंह, जो अपना 100वां जन्मदिन रनिंग करके मनाना चाहते हैं। - Dainik Bhaskar
जगतार सिंह, जो अपना 100वां जन्मदिन रनिंग करके मनाना चाहते हैं।

आजकल के युवाओं को फिटनेस का काफी जुनून रहता है, लेकिन अगर फिटनेस हो तो जगतार सिंह जैसी। जगतार सिंह 98 साल की उम्र पार कर चुके हैं, लेकिन इस उम्र में भी वह दौड़ लगाकर लोगों के लिए प्रेरणास्रोत बने हुए हैं। पेशे से किसान हैं, उनका मानना है कि नियमित रूप से व्यायाम करेंगे तो फिटनेस खत्म होने का सवाल ही नहीं उठता।

उनको पिछले 50 साल में कोई दवा लेने की जरूरत नहीं पड़ी, क्योंकि वह नियमित रूप से व्यायाम करते हैं। जगतार सिंह दौड़ लगाते-लगाते बुढ़ापे में अच्छे खासे धावक बन गए हैं। तभी तो उन्होंने नेशनल स्तर पर वेटर्न एथलेटिक्स प्रतिस्पर्धाओं में 6 गोल्ड मेडल जीते हैं। अब उनकी इच्छा है कि वे अपने 100वें जन्मदिन को भी दौड़ लगाकर मनाएं।

6 गोल्ड मेडल 90 की आयु पार करने के बाद जीते

26 फरवरी 1923 को लाहौर में जन्मे जगतार सिंह भारत-पाक विभाजन के बाद फिरोजपुर के गांव सयाल में आ बसे। 1979 में उन्होंने खेती का काम छोड़ा तो व्यायाम करने की सोची और खेतों में ही दौड़ लगानी शुरू कर दी। उसके बाद अब तक वे सुबह शाम हर रोज दौड़ लगा रहे हैं। पिछले चार साल से वे अपनी शारीरिक जांच डॉक्टरों से करवा रहे हैं और हर प्रकार की जांच में फिट पाए जा रहे हैं।

उनका मानना है कि व्यायाम लंबी उम्र और निरोगी काया का सबसे बड़ा साधन है। 98 वर्ष की आयु पार कर चुके जगतार सिंह अब अपने 100वें जन्मदिवस को इसी प्रकार एक्टिव रहते हुए मनाने की इच्छा रखते हैं। उनका मानना है कि अब तो दो साल से भी कम समय बाकी है मेरे 100वें जन्म दिवस को तो तब तक तो मैं अपने आपको दौड़ लगा कर फिट रखने के लिए तैयार हूं।

2010 के बाद उन्होंने वेटर्न एथलेक्टिस प्रतिस्पर्धाओं में 6 गोल्ड मेडल जीते हैं। यह सभी मेडल 90 की आयु पार करने के बाद जीते हैं। जगतार सिंह ने बताया कि कोरोना काल में तो शारीरिक व्यायाम का महत्व और बढ़ गया है। इसलिए सभी को सुबह-शाम अपने कामकाज से समय निकाल कर व्यायाम जरूर करना चाहिए।

खबरें और भी हैं...