पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • 'help Front' Of Village to village In Punjab, House to family Care, Providing Fertilizer And Water To The Farm, Treatment Is Also Free

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पंजाब के किसानों के गांव से रिपोर्ट:दिल्ली गए किसानों के परिवारों की मदद के लिए गुरुद्वारे से अनाउंसमेंट, टीमें उनके खेत भी संभाल रहीं

जालंधर2 महीने पहलेलेखक: मनीष शर्मा
बठिंडा के कराड़वाला गांव में ये मक्खन सिंह का खेत है, जो दिल्ली में आंदोलन कर रहे हैं। ऐसे ही किसानों के खेतों की देखभाल के लिए टीमें बनाई गई हैं।
  • पंजाब के करीब 12,500 गांवों से कोई न कोई दिल्ली पहुंचा, कुछ परिवारों के एक से ज्यादा लोग गए
  • गांवों में टीमें और वॉट्सऐप ग्रुप बने, परिवारों की मदद और खेती-किसानी में तुरंत सहायता दी जा रही

पंजाब के बठिंडा का कराड़वाला गांव। यहां के किसान मक्खन सिंह अपनी आलू की फसल छोड़ दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन में शिरकत करने गए हैं। मक्खन तो दिल्ली में हैं, लेकिन उनकी आलू की फसल में तीन लोग कीटनाशक का छिड़काव कर रहे हैं। अकेला मक्खन का खेत नहीं है, जहां उन्हें मदद करनी है। ड्यूटी दूसरे खेतों में भी देनी है, क्योंकि इन खेतों के किसान भी दिल्ली के आंदोलन में डटे हुए हैं।

आंदोलन में शामिल ज्यादातर किसान पंजाब के ही हैं। संगठनों ने बताया कि करीब 12 हजार 500 गांवों से किसान दिल्ली पहुंचे हैं। कुछ परिवारों के एक से ज्यादा सदस्य वहां गए हैं। दिल्ली में आंदोलन कमजोर न पड़े और किसानों के खेत-परिवार भी सुरक्षित रहें, इसके लिए ऐसा मैनेजमेंट किया गया है। इस रिपोर्ट से समझिए ये मैनेजमेंट...

1. गांवों में आंदोलनकारियों की लिस्टिंग, टीमें उनके घर रोज जाकर हाल-चाल लेती हैं
कराड़वाला के युवा प्रदीप सिंह कहते हैं- जो लोग खेत में खड़ी फसल और परिवार छोड़कर दिल्ली गए हैं, उनके लिए हमारी भी कुछ जिम्मेदारी बनती है। हमने आठ युवाओं को जोड़कर एक कमेटी बनाई और उसका वॉट्सऐप ग्रुप बनाया। पूरे गांव में घूमकर लिस्ट तैयार की कि कौन-कौन से किसान दिल्ली में मोर्चे पर डटे हैं। उनके घर में कौन-कौन हैं? किसी को कोई तकलीफ तो नहीं? खेत में कौन सी फसल लगी है? हर रोज यह कमेटी घर-परिवार का हाल पूछने जाती है और खेतों में चक्कर लगाती है।

2. ग्रुप पर शेयर जरूरत के लिहाज से मदद, मनोबल बढ़ाने के लिए महिलाओं की टीम
वॉट्सऐप ग्रुप पर फसल व परिवार की जरूरत शेयर होती है। इसके बाद टीम तुरंत मदद के लिए पहुंच जाती है। खेत को पानी देने से लेकर खाद व कीटनाशक का छिड़काव जैसे काम भी हो रहे हैं। गांव में 25 महिलाओं की भी अलग टीम बनी है। आंदोलन में गए किसान परिवारों की महिलाओं से मुलाकात कर उनका मनोबल बढ़ाते हैं।

3. परिवारों की मदद के लिए गुरुद्वारों से अनाउंसमेंट, डॉक्टर फ्री इलाज कर रहे हैं
मानसा के भैणीबाघा समेत कई गांवों में हर रोज सुबह गुरुद्वारे से अनाउंसमेंट होता है कि अगर किसी किसान के घर में परिवार या खेत में खड़ी फसल को लेकर कोई जरूरत हो तो तुरंत गुरुद्वारे में संपर्क करे। मदद के लिए 24 घंटे कोई न कोई दस्ता रहता है। डॉक्टर उन परिवारों से दवाई और चेकअप की फीस नहीं ले रहे हैं, जिनके घर से कोई आंदोलन में गया है। जिन घरों के सभी पुरुष आंदोलन में डटे हैं, वहां डॉक्टर खुद जाकर चेकअप कर रहे हैं।

4. सरसों का साग-देसी घी पहुंचा रहे, कोई दिल्ली से लौटता है तो दूसरा रुक जाता है
भारतीय किसान यूनियन समेत कई किसान संगठन परिवारों की मदद में जुटे हैं। उधर, दिल्ली में जो किसान आंदोलन कर रहे हैं, उन्हें कोई दिक्कत न हो, इसके लिए भी गांवों में टीमें बनाई गई हैं। गांवों से 4-5 युवा सरसों का साग और देसी घी लेकर दिल्ली बॉर्डर तक जाते हैं। एक व्यवस्था यह भी है कि दिल्ली में जो किसान है, अगर उसकी जरूरत घर पर है तो वह लौट आता है। उसकी जगह गांव से गए दूसरे लोग वहां रुक जाते हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का अधिकतर समय परिवार के साथ आराम तथा मनोरंजन में व्यतीत होगा और काफी समस्याएं हल होने से घर का माहौल पॉजिटिव रहेगा। व्यक्तिगत तथा व्यवसायिक संबंधी कुछ महत्वपूर्ण योजनाएं भी बनेगी। आर्थिक द...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser