सराय पर GST को लेकर केंद्र की सफाई:दरबार साहिब की सरायों पर न टैक्स लगाया और न ही SGPC को कोई नोटिस भेजा

चंडीगढ़4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अमृतसर स्थित दरबार साहिब की सरायों पर 12% GST मामले में नया ट्विस्ट आ गया है। सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्ट टैक्स एवं कस्टम्स(CBIC) ने इस मामले में सफाई दी है। उन्होंने कहा कि शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी (SGPC) की सरायों पर GST नहीं लगाया गया है। इसको भरने के लिए भी कोई नोटिस नहीं भेजा गया। यह संभव है कि उन्होंने खुद ही GST जमा करवा दिया हो।

कमरे का चार्ज 1000 से कम तो GST से छूट
CBIC ने कहा कि जीएसटी कौंसिल की 47वीं बैठक हुई थी। उसकी सिफारिश के मुताबिक 1000 रुपए प्रतिदिन के किराए वाले होटल कमरों से GST छूट वापस ले ली गई। उन पर 12% GST लगाया गया है। हालांकि इसमें एक और छूट है जो किसी भी चेरिटेबल या धार्मिक ट्रस्ट द्वारा कमरे किराए पर देने को GST से छूट देती है। जहां कमरे के लिए चार्ज रकम 1000 से कम है। यह छूट बिना किसी बदलाव के लागू है।

CBIC ने इस संबंध में नोटिफिकेशन की कॉपी भी जारी की है।
CBIC ने इस संबंध में नोटिफिकेशन की कॉपी भी जारी की है।

तीनों सरायों को नोटिस नहीं दिया
CBIC ने कहा कि यह भी कहा जा रहा है कि अमृतसर में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की तरफ से चलाई जा रही तीन सरायों ने GST देना शुरू कर दिया है। यह 3 सरायें गुरू गोबिंद सिंह NRI निवास, बाबा दीप सिंह निवास और माता भाग कौर निवास हैं। इस बारे में स्पष्ट किया गया कि इनमें से किसी को भी नोटिस नहीं दिया गया। हो सकता है कि इन्होंने खुद ही GST भरना शुरू किया हो। इस संबंध में जारी नोटिफिकेशन के आधार पर एसजीपी की सरायों फायदा ले सकती हैं।

AAP कर रही थी विरोध, भाजपा नेता भी खिलाफ हुए
आम आदमी पार्टी सरायों पर टैक्स का विरोध कर रही थी। सीएम भगवंत मान ने केंद्र से यह टैक्स वापस लेने की मांग की थी। वहीं सांसद राघव चड्‌ढा ने कल ही इस संबंध में केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमन से मुलाकात की थी। भाजपा नेता हरजीत ग्रेवाल और सुखपाल सरां भी इसके खिलाफ थे। उन्होंने केंद्र से इस फैसले को वापस लेने की मांग की थी। अकाली दल भी जीएसटी का विरोध कर रहा है।

खबरें और भी हैं...