पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Heavy Crowd Gathered In More Than 200 Years Old Arena Of Jalandhar, Claimed To Have Seen Footprint Of Bala Ji

अनूठा नजारा:जालंधर में 200 साल से ज्यादा पुराने अखाड़े में उमड़ी भीड़, बाला जी के पदचिह्न देखे जाने का दावा

जालंधर15 दिन पहले
जालंधर के नाथां वाली बगीची स्थित अखाड़े में बड़े आकार के पदचिह्नाें पर चढ़ाए गए फूल।
  • जालंधर शहर के जेल रोड पर स्थित नाथां वाली बगीची का है मामला, सुबह 4 बजे सबसे पहले मंदिर के पुजारी ने देखे बड़े-बड़े आकार के पदचिह्न
  • अखाड़े की सेवा करने वाले मंगल पहलवान ने कहा-शनिवार रात को वह खुद अखाड़े की मिट्टी को समतल करके गए थे
  • बंद किया हनुमान जी के मंदिर का दरवाजा भी सुबह खुला मिलने की बात, लोगों ने 15 विचित्र पदचिह्नों पर फूल चढ़ाकर पूजा की

जालंधर में 200 साल से भी ज्यादा पुराने कुश्ती अखाड़े में रविवार को एकाएक भीड़ जमा होना शुरू हो गई। कहा जा रहा है कि यहां बाला जी महाराज के पदचिह्न देखे गए हैं। इसके बाद यहां श्रद्धालुओं का तांता लग गया। श्रद्धालुओं ने अखाड़े पर पड़े कुल 15 पदचिह्नों पर फूल चढ़ाकर माथा टेका। इस दौरान राहुल बाहरी ने बताया कि इस अखाड़े में पहले भी इस तरह के चमत्कार होते रहे हैं। ये आश्चर्य पैदा करने के साथ-साथ भक्ति और आस्था का प्रमाण भी देते रहे हैं।

मामला जालंधर शहर के जेल रोड पर स्थित नाथां वाली बगीची का है। यहां स्थित पंचमुखी महादेव मंदिर के पंडित प्रशांत तिवारी ने बताया कि वह रोज की तरह सुबह 4 बजे स्नान करने के लिए अखाड़े के पास बने स्नानगृह में जा रहे थे। एकाएक उन्होंने देखा कि अखाड़े में बड़े-बड़े पैरों के निशान थे। इसके बाद उन्होंने तुरंत अखाड़े की सेवा करने वाले मंगल पहलवान को सूचित किया। मंगल पहलवान भी अखाड़े में पहुंच गए और बड़े-बड़े पदचिह्न देखकर वह भी आश्चर्यचकित हो गए। उन्होंने बताया कि वह कल रात को अखाड़े की मिट्टी को समतल करके गए थे।

दोनों ने मंदिर कमेटी को बताया कि अखाड़े में भगवान हनुमान जी ने चरण रखे हैं। मंदिर के पुजारी ने बताया कि ये पदचिह्न बालाजी महाराज के पदचिह्नों की तरह हैं। इसके बाद तो यह बात पूरे शहर में जंगल की आग की तरह फैल गई और लोगों में उनके दर्शनों के लिए उत्साह पैदा हो गया। बड़ी गिनती में लोग अखाड़े में पहुंचे और यहां दिखे 15 विचित्र पदचिह्नों पर फूल चढ़ाकर उनकी पूजा-अर्चना की। यह सिलसिला दोपहर बाद तक निरंतर जारी रहा।

एक ओर वहीं पंडित प्रशांत तिवारी ने बताया कि रात को हनुमान जी के मंदिर का दरवाजा भी बंद कर दिया गया था। सुबह 4 बजे वह भी खुला मिला। वहीं मौके पर पहुंचे राहुल बाहरी ने बताया कि इस अखाड़े में पहले भी इस तरह के चमत्कार होते रहे हैं। ये आश्चर्य पैदा करने के साथ-साथ भक्ति और आस्था का प्रमाण भी देते रहे हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन परिवार व बच्चों के साथ समय व्यतीत करने का है। साथ ही शॉपिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत होगा। आपके व्यक्तित्व संबंधी कुछ सकारात्मक बातें लोगों के सामने आएंगी। जिसके ...

और पढ़ें