पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Hoshiarpur: Angry Brother From Love Marriage, Along With A Friend, Murdered The Woman, Took Off 9 Bullets In The Chest; Was Held

होशियारपुर में हत्या का राज खुला:लव मैरिज से खफा भाई ने दोस्त के साथ मिलकर की महिला की हत्या, सीने में उतार दी थी 9 गोलियां; धरा गया

होशियारपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
होशियारपुर में हत्या की वारदात के बाद शव बरामद किए जाने वाली जगह पर मौजूद पुलिस। -फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
होशियारपुर में हत्या की वारदात के बाद शव बरामद किए जाने वाली जगह पर मौजूद पुलिस। -फाइल फोटो

होशियारपुर में महिला की हत्या के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। पुलिस ने महिला के भाई को उसके एक साथी के साथ गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि वह अपनी बहन के लव मैरिज, तलाक और फिर लिव इन रिलेशनशिप से परेशान था। उसे सजा देने के लिए युवक ने अपने दोस्त के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी थी। सगी बहन के सीने में पूरी 9 गोलियां उतार दी थी। हत्या के मामले को 15 दिन बाद पुलिस ने इसके राज से पर्दा उठा दिया है। आरोपियों से उनके पास से तीन गाड़ियां और रिवाल्वर भी बरामद किया है।

वारदात 21 अप्रैल की है जब, जिले के गांव खड़ियाला सैनियां की रहने वाली मनप्रीत कौर की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मिली जानकारी के अनुसार करीब 10 साल पहले मनप्रीत कौर ने पवनदीप नामक एक युवक के साथ लव मैरिज की थी। अब कुछ समय से मनप्रीत कौर का पति पवनदीप के साथ तलाक का केस चल रहा था। उन दोनों के दो बेटे हैं। उसके सास-ससुर के पास ही रहते हैं। बिना तलाक हुए मनप्रीत कौर किसी के साथ लिव इन में रहने लग गई। उसके ससुर रछपाल सिंह की मानें तो मनप्रीत के परिवार वाले इससे खुश नहीं थे। एक साल के बाद मनप्रीत और पवनदीप के घर लड़के का जन्म हुआ। इसके बारे में मनप्रीत के माता-पिता को पवन ने फोन पर बताया। मगर, वहां से कोई भी नहीं पहुंचा था। कुछ समय बाद मनप्रीत और पवनदीप में अनबन हो गई थी, जिसके चलते दोनों में तलाक तक बात पहुंच गई, लेकिन समझौता हो गया था। इसके बावजूद मनप्रीत कौर कभी परिवार में नहीं रही। झगड़े के बाद वह अलग रहने लगी और इसी दौरान पवनदीप विदेश चला गया तो ससुराल वालों ने मनप्रीत को एक अलग मकान रहने के लिए दे दिया। मनप्रीत कौर दोनों बच्चों 9 साल और डेढ़ साल के लड़कों को उसके दादा-दादी के पास छोड़कर अकेली ही दूसरे मकान में रहती थी।

रछपाल सिंह ने बताया कि जब भी मनप्रीत के बच्चे उसके पास मिलने के लिए जाते तो वह यही कहती थी कि वह बच्चों को नहीं संभाल सकती और एक बार तो उसने यह तक बोल दिया कि अगर आप से बच्चे नहीं संभल रहे तो दोनों को सड़क किनारे बैठा देना और किसी वाहन के नीचे आ जाएं तो मुझे मत बताना। इसी बात से खफा चल रहे उसके भाई हरप्रीत ने 21 अप्रैल को उसका कत्ल कर दिया। उसने अपनी बहन को नौ गोलियां मारी और कत्ल के बाद शव को सिकरी बस स्टैंड के पास गांव बूरे राजपूतां के खेत में फेंक दिया। कत्ल का तब पता चला, जब 22 अप्रैल की सुबह लोग खेतों में काम के लिए पहुंचे। गांव के सरपंच ने सूचना थाना बुल्लोवाल पुलिस को दी। शव पर नौ गोलियां के अलावा जख्मों के निशान भी पाए गए।

खबरें और भी हैं...