पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • In TaranTaran, Heroin Smuggler Released By Police By Taking Bribe Of Rs. 3.5 Lakh, Case Filed On 5 Including Inspector And Head Constable

खाकी पर लगा दाग:तरनतारन में साढ़े 3 लाख रुपए लेकर हेरोइन तस्कर को छोड़ने का आरोप, इंस्पेक्टर और हेड कांस्टेबल समेत 5 पर केस दर्ज

तरनतारन5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मामले की जानकारी सब-इंस्पेक्टर सतनाम सिंह ने SSP ध्रुमन एच निंबाले को सूचना दी थी। - Dainik Bhaskar
मामले की जानकारी सब-इंस्पेक्टर सतनाम सिंह ने SSP ध्रुमन एच निंबाले को सूचना दी थी।

पंजाब में खाकी पर एक बार फिर दाग लगे हैं। इस बार पुलिस कर्मियों पर हेरोइन तस्कर को छोड़ने के आरोप लगे हैं। मामला तरनतारन का है। इंस्पेक्टर और हेड कांस्टेबल समेत 5 पुलिस कर्मियों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। अभी एक को गिरफ्तार किया गया है, बाकी की तलाश जारी है।

मामले की पुष्टि SSP ध्रुमन एच निंबाले ने की। आरोपियों की पहचान इंस्पेक्टर बलजीत सिंह वड़ैच, हेड कांस्टेबल दविंदर सिंह के अलावा तस्कर मलकीत सिंह उर्फ पलटा, बाऊ सिंह गोहलवड़, जसबीर सिंह जस्सा के रूप में हुई है। हेड कांस्टेबल दविंदर सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है।

ये है मामला

पांचाें पुलिस कर्मियों पर आरोप लगे हैं कि इंस्पेक्टर बलजीत सिंह वड़ैच ने तस्कर मलकीत सिंह उर्फ पलटा को साढ़े 3 लाख रुपए रिहा कर दिया। इसमें बाकी सभी ने उसे सहयोग किया। गुरुवाली निवासी मलकीत सिंह को एक किलो हेरोइन के साथ गिरफ्तार किया गया था। मामला SSP निंबाले तक पहुंचा।

SSP निंबाले ने सब डिवीजन पट्टी के DSP कुलजिंदर सिंह को मामले की जांच सौंपी। इस जांच के बाद हेड कांस्टेबल दविंदर सिंह को मौके पर गिरफ्तार कर लिया गया। मामला 31 मार्च का है। इंस्पेक्टर को सूचना मिली थी कि तस्कर मलकीत सिंह उर्फ पलटा हेरोइन बेचने के लिए तरनतारन आया हुआ है।

उन्होंने कार्रवाई करते हुए अपने गनमैन हेड कांस्टेबल दविंदर सिंह को साथ लेकर तस्कर मलकीत सिंह पलटा व गोहलवड़ के बाऊ सिंह को पकड़ लिया। लेकिन गुरुवाली के ही रहने वाले जसवीर सिंह उर्फ जस्सा ने मलकीत सिंह को छुड़वाने के लिए इंस्पेक्टर बलजीत सिंह वड़ैच से सौदेबाजी की।

डील साढ़े तीन लाख रुपए में तय हुई और बलजीत ने पैसे लेकर मलकीत को छोड़ दिया। मामले की जानकारी सब-इंस्पेक्टर सतनाम सिंह ने SSP ध्रुमन एच निंबाले को सूचना दी। उन्होंने सब डिवीजन पट्टी के DSP कुलजिंदर सिंह को मामले की जांच सौंपी। जांच में सारा कुछ पानी की तरह साफ हो गया। इसके बाद थाना सिटी में पांच आरोपियों की पहचान करके उनके खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया।