पंजाब में माहौल बिगाड़ने की साजिश:​​​​​​​फरीदकोट में पार्क की दीवार पर लिखे खालिस्तान जिंदाबाद के नारे; CCTV खंगालने में जुटी पुलिस

चंडीगढ़एक महीने पहले

पंजाब के फरीदकोट में बाजीगर बस्ती के पास खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लिखे मिले हैं। नगर के सफाई कर्मचारी कर्ण कुमार ने इस बारे में पुलिस को सूचना दी है। इसका पता चलते ही पुलिस में हड़कंप मच गया।पुलिस ने तुरंत पेंट कराकर नारे मिटा दिए। इसके बाद पुलिस ने पूरे शहर की सुरक्षा बढ़ा दी है। पूरे इलाके के सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं। पुलिस नारे लिखने वालों का पता लगाने के लिए लगातार चेकिंग अभियान भी चला रही है।

CCTV खंगाले जा रहे : SSP

फरीदकोट की SSP अवनीत कौर सिद्धू ने कहा कि इसका पता चलते ही पुलिस टीम बना दी गई है। इलाके की CCTV फुटेज चेक की जा रही है और केस दर्ज कर लिया है। पुलिस टीमों को भी अलर्ट पर रख दिया गया है। पुलिस टीमें इलाके में रेड कर रही हैं।

नारे को पेंट से मिटाता कर्मचारी
नारे को पेंट से मिटाता कर्मचारी

कुमार विश्वास बोले- देश मेरी चेतावनी याद रखे

मामले में भी मशहूर कवि कुमार विश्वास की प्रतिक्रिया आई है। उन्होंने फरीदकोट में खालिस्तानी नारों की खबर के साथ लिखा - देश मेरी चेतावनी याद रखे। विश्वास खालिस्तान से जुड़ी खबरों पर लगातार इस तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं। इसमें वह किसी का नाम नहीं ले रहे लेकिन चुनाव से पहले उन्होंने अलगाववादियों और आप सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल को लेकर कई तरह के आरोप लगाए थे।

रोपड़ में भी लिखे जा चुके नारे

इससे पहले रोपड़ मिनी सेक्रेट्रेरिएट के बाहर खालिस्तानी बैनर लगाया जा चुका है। पुलिस ने इस मामले में कहा कि इसके तार भी हिमाचल प्रदेश के आरोपी से जुड़े हैं। पुलिस का दावा है कि हिमाचल विधानसभा में बैनर लगाने वाले हरबीर सिंह राजू और उसके फरार साथी परमजीत सिंह ने ही रोपड़ में यह बैनर लगाए थे।

पटियाला में खालिस्तान विरोध मार्च पर हो चुकी हिंसा

इससे पहले पटियाला में खालिस्तान विरोधी मार्च को लेकर हिंसा हो चुकी है। जहां शिवसेना वाले खालिस्तान मुर्दाबाद मार्च निकाल रहे थे। इसका पता चलने पर बरजिंदर परवाना की अगुवाई में सिख कट्‌टरपंथियों ने इसका विरोध किया। जिसको लेकर दोनों पक्षों में पथराव और तलवारबाजी हुई। हालात संभालने के लिए पुलिस को हवाई फायरिंग करनी पड़ी।