संगरूर में खालिस्तान जिंदाबाद के नारे:केजरीवाल के दौरे से पहले काली माता मंदिर की दीवार पर लिखे; 23 जून को यहां मतदान

चंडीगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब के संगरूर में लोकसभा उपचुनाव के बीच काली माता मंदिर के गेट पर खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लिखे मिले हैं। इसका पता चलते ही पुलिस और प्रशासन में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में पेंट कर नारे मिटा दिए गए। संगरूर में चुनाव आचार संहिता लागू हैं और 23 जून को मतदान होना है।

आज ही पंजाब में सरकार चला रही आम आदमी पार्टी (AAP) के सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल संगरूर आ रहे हैं। वह इस मंदिर में भी माथा टेकने आ सकते हैं। ऐसे में इस तरह की हरकत से कानून व्यवस्था को लेकर बड़े सवाल खड़े हो रहे हैं।

मंदिर की दीवार पर लिखे खालिस्तान के नारे।
मंदिर की दीवार पर लिखे खालिस्तान के नारे।

CCTV नहीं लगा था, पुलिस जांच में जुटी
जिस जगह पर नारे लिखे गए, उसके सामने कोई सीसीटीवी कैमरा नहीं लगा हुआ है। इस वजह से नारे किसने लिखे, इसके बारे में खुलासा नहीं हो सका है। पुलिस अब मंदिर को आने-जाने वाले रास्तों पर लगे सीसीटीवी खंगालने में जुटी हुई है। हालांकि अभी तक पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लगा है।

खालिस्तान के नारे को पेंट कर मिटाता कर्मचारी।
खालिस्तान के नारे को पेंट कर मिटाता कर्मचारी।

फरीदकोट और फिरोजपुर में भी लिखे जा चुके नारे
इससे पहले फरीदकोट और फिरोजपुर में भी खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लिखे जा चुके हैं। फरीदकोट में पहले बाजीगर बस्ती के पार्क और फिर जज की कोठी की दीवार पर यह नारे लिखे गए। इसके बाद फिरोजपुर में डिविजनल रेलवे मैनेजर (DRM) की कोठी के बाहर यह नारे लिखे गए थे। हालांकि पुलिस ने इसका ठीकरा सिख फॉर जस्टिस के सरगना गुरपतवंत सिंह पन्नू पर ठीकरा फोड़ दिया।