पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Look At The Last Budget Of The Tenure Of The Punjab Government From The Point Of View Of Experts

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पंजाब बजट 2021:एक्सपर्ट की नजर से देखिए पंजाब सरकार के कार्यकाल का आखिरी बजट

पंजाबएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पुराना कर्ज चुकाने को लेना होगा 45687 करोड़ का कर्ज

-विनम्र गुप्ता व जीएस चावला, जीएसटी व आईटी माहिर

पंजाब सरकार के बजट की बात करें तो सरकार को पुराना कर्ज चुकाने के लिए दोबारा कर्ज लेना होगा। बजट के मुताबिक वर्ष 2017 में सूबे पर 38 हजार करोड़ का कर्ज था, जोकि 2020-21 में बढ़ कर 70167 करोड़ हो गया। वहीं अब पुराना कर्ज चुकाने को सरकार को 45687 करोड़ का नया कर्ज लेना होगा।

बजट के मुताबिक वर्ष 2020-21 के अंत में सूबे पर 70167 करोड़ कर्ज है, वहीं 2021-22 में 48513 करोड़ रुपए लोन री पेमेंट करने के बाद भी 67341 करोड़ का कर्ज रहेगा। आय के स्त्रोत में पहले ही 8622 करोड़ का घाटा दर्शाया है, जिससे स्पष्ट है कि 45687 करोड़ का नया कर्ज लेकर ही पुराना कर्ज उतारा जा सकेगा।

उधर, वित्त मंत्री ने बजट में वर्ष 2021-22 में सूबे की आमदनी के स्त्रोतों में 32% की बढ़ोतरी होने का हैरानीजनक दावा किया है। वहीं सूबे की 2020-21 की आमदन में 20730 करोड़ का घाटा बताया गया है, जबकि 2021-22 में इस घाटे को 58% कम कर 8622 करोड़ पर लाने का दावा किया गया है। जो बजट में स्टेट जीडीपी में 0.17% बढ़ोतरी से पूरा करना मुमकिन नहीं दिख रहा है।

हाॅस्पिटेलिटी सेक्टर में 8 लाख जॉब गईं, इंडस्ट्री को कुछ नहीं

-राहुल आहूजा, चेयरमैन, सीआईआई पंजाब

ये एक पॉपुलिस्ट बजट है इसमें इंडस्ट्री के लिए कुछ नहीं है। धनानसु साइकिल वैली आदि पुराने प्रोजेक्ट हैं इसमें नया कुछ भी नहीं है। पंजाब में बिजली उत्पादन बढ़िया है लेकिन ट्रांसमिशन ठीक से हो इसके लिए फण्ड नहीं रखा गया है। अभी जितना उत्पादन हो रहा है उसमें से काफी व्यर्थ चला जाता है।

इंडस्ट्री को और आम जनता को भी इसलिए बिजली अनशेड्युल्ड बिजली कट झेलने पड़ते हैं। हॉस्पिटैलिटी सेक्टर को सबसे अधिक नुक्सान कोविड के चलते हुए है उन्हें रिलीफ पैकेज देना चाहिए था। इस सेक्टर से जुड़े 8 लाख से अधिक लोगों की नौकरियां प्रभावित हुई हैं। इनके लिए स्पाईसीएल रिलीफ पैकेज दिया जाना चाहिए था।

इंडस्ट्रियल इंफ्रास्ट्रक्चर को सुधारने के लिए भी न तो किसी नए फोकल पॉइंट की घोषणा की गई है और न ही इनके सुधार के लिए किसी बजट की बात की गई है। पंजाब एक लैंड लॉक्ड स्टेट है जोकि पोर्ट से बहुत दूर है। ऐसे में फ्रेट सब्सिडी की बड़ी दरकार है ताकि हमें बाकी राज्यों के मुक़ाबले कोस्ट फैटपोर पर मार न खानी पड़े। लेकिन सरकार ने इसकी और कोइ ध्यान नहीं दिया है।

3 लाख छोटे किसानों की कर्ज माफी अच्छी, पर जरूरत ज्यादा

-डॉ. सुखपाल सिंह, प्रमुख अर्थशास्त्री, पीएयू लुधियाना

13 लाख किसानों में से पहली बार 3 लाख छोटे किसानों को कर्ज माफी की बात कही है। इन किसानों के पास 5 एकड़ से कम ज़मीन है। इनकी गिनती पंजाब में 34% हैं लेकिन केवल 9% ज़मीन इनके पास है। इन्हें सब्सिडी केवल 7 से 8% मिलती है। इसलिए इनकी आर्थिक हालत बुरी है और इन्हें कर्ज माफी की सबसे ज्यादा ज़रूरत थी। कृषि में मशीनरी आने से इनका नुक्सान हुआ है।

केंद्र व पंजाब सरकार में से कोई भी इनके लिए कोई वैकल्पिक रोज़गार नहीं ला पाई है। पराली जलाने से रोकने के लिए रोटावेटर और बैलेर जैसी मशीनरी देने का फैसला भी अच्छा है इससे भी छोटे किसान को फायदा मिलेगा। इसे कोआपरेटिव तरीके से कामयाब किसान खुशहाल पंजाब योजना के तहत 3,780 करोड़ की योजना भी अच्छी है। डेरी फार्मिंग पर भी ज़ोर देना अच्छा है। इससे भी ऑक्यूपेशनल डायवर्सिफिकेशन आएगी। खेती के फॉरवर्ड (प्रोसेसिंग, वैल्यू अॉडिशन) और बैकवर्ड लिंकेज (इनपुट कॉस्ट बीज फ़र्टिलाइज़र, मशीनरी आदि ) बढ़ाने की ज़रूरत है। ये पब्लिक और कॉओपरेटिव सेक्टर में बनने चाहिए प्राइवेट हाथों में नहीं।

ये बोले राजनीतिज्ञ

बजट में हर वर्ग के लिए कुछ न कुछ है

बजट में महिलाओं, युवाओं व बच्चों समेत हर वर्ग के लिए बजट में कुछ न कुछ है। ये आम लोगों का बजट है। शगुन व पेंशन रकम में बढ़ोतरी से बुनियादी ढांचा मजबूत होगा। ये बजट किसान व गरीब हितैषी है।
-कैप्टन अमरिंदर सिंह, मुख्यमंत्री

ये बजट नहीं चुनावी मैनिफेस्टो लग रहा यह बजट न होकर चुनावी मैनिफेस्टो लग रहा है। दलितों के लिए बजट में कोई घोषणा नहीं की गई। किसानों की कर्ज माफी फिर नहीं हो सकी। लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ किया है।-हरपाल सिंह चीमा, आप

सरकार का बजट सिर्फ चुनावी

कांग्रेस ने महिलाओं, खेत मजदूरों, कर्मचारियों और बुजुर्गों के लिए आज जो घोषणाएं की हैं, वे पिछले चार सालों में सरकार ने क्यों नहीं की। ये घोषणाएं वोटर को रिझाने के लिए हैं।-सुखबीर बादल, शिअद

बजट रोंदा पंजाब का दस्तावेज

बजट रोंदा पंजाब का दस्तावेज है। कैप्टन ने किसानों को प्रति एकड़ न्यूनतम आय देने, 5 एकड़ से कम जमीन वाले किसान को नौकरी देने का वादा किया था, लेकिन आज तक कोई पूरा नहीं हुआ।-तरुण चुघ, राष्ट्रीय महामंत्री, भाजपा

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- ग्रह स्थिति अनुकूल है। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और हौसले को और अधिक बढ़ाएगा। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी काबू पाने में सक्षम रहेंगे। बातचीत के माध्यम से आप अपना काम भी निकलवा लेंगे। ...

    और पढ़ें