पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana Sirmaur Halwara Airbase Espionage Case, If There Was Any Connection With The Terrorists Who Spoke At Sabir's House, Then There Is No Need To Eat; Rampal's Family Also Told Innocent

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हलवारा एयरबेस जासूसी केस:साबिर के घर वाले बोले- आतंकियों से ताल्लुक होता तो खाने के लाले नहीं पड़ते; रामपाल के परिजन ने भी बताया बेकसूर

लुधियाना/सिरमौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में शामिल होने के संदिग्धों को कोर्ट में पेश करने के लिए लेकर पहुंची जगराओं की पुलिस टीम। - Dainik Bhaskar
राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में शामिल होने के संदिग्धों को कोर्ट में पेश करने के लिए लेकर पहुंची जगराओं की पुलिस टीम।
  • लुधियाना पुलिस ने बीते दिनों गिरफ्तार किया था जिले के रहने वाले रामपाल और सुक्खा के अलावा सिरमौर के साबिर अली को
  • सोमवार को कोर्ट में पेश करके दोबारा लिया गया है 3 दिन के रिमांड पर, देश की सुरक्षा का वास्ता दिया पुलिस ने

लुधियाना के हलवारा एयरबेस की जासूसी के आरोप में गिरफ्तार तीन में से दो आरोपी के परिवार अब तक सामने आए हैं। इनमें हिमाचल प्रदेश के साबिर अली के परिजन की मानें तो घर में खाने के लाले पड़े हुए हैं। अगर पुलिस वाली आतंकियों से संबंध की बात में दम होता तो घर में खाने के लाले नहीं पड़े होते, बल्कि अपार धन-संपत्ति होती। परिवार का गुजर मजदूरी से चल रहा है और पिछले 2 महीने से तो उसका पिता चोट लगने की वजह से घर पर बैठा है।

इस मामले में गिरफ्तार किए गए थे तीन लोग
बीते दिनों लुधियाना पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया था। इनमें से एक आरोपी की पहचान लुधियाना के गांव टूसा निवासी रामपाल सिंह के रूप में हुई है। दूसरा उसी के गांव का सुखकिरण सिंह उर्फ सुक्खा और तीसरा हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के गांव लाल पीपल निवासी साबिर अली है। इस बारे में पुलिस का कहना है कि रामपाल की कुछ बरस कुवैत में रहकर आने की सूचना मिली थी। यह भी जानकारी मिली थी कि वह सुक्खा और साबिर अली समेत कट्टरपंथी संगठनों के साथ मिला हुआ है।

गैरकानूनी गतिविधियां चलाकर पंजाब में माहौल खराब करने के लिए पाकिस्तान में बैठे ISI एजेंट अदनाल के साथ संपर्क में है। वह उन्हें एयरबेस की अंदरूनी खुफिया जानकारी और फोटो भेजता है। ये तीनों रिमांड पर चल रहे हैं। सोमवार को रिमांड खत्म होने के बाद पुलिस ने इन्हें कोर्ट में पेश किया तो फिर से तीन दिन के रिमांड पर भेज दिया गया है।

सिरमौर के निवासी साबिर अली की मां खुशमीदा और पिता शमशाद मीडिया से बात करते हुए।
सिरमौर के निवासी साबिर अली की मां खुशमीदा और पिता शमशाद मीडिया से बात करते हुए।

साबिर अली के परिवार की दलील
सुनवाई के वक्त जगराओं पहुंचे साबिर अली की मां खुशमीदा और पिता शमशाद ने कहा कि उनका परिवार दो जून की रोटी का भी मोहताज है। अगर साबिर के संबंध आतंकियों से होते तो घर में पैसे की कोई कमी नहीं होती। शमशाद 2 महीने पहले चोट लगने के कारण खाली है और साबिर गांव में मजदूरी करता है। इसी से घर चलता है। वह सिर्फ 8वीं पास ही है, ऐसी चीजों की उसे क्या जानकारी होगी।

पंजाब पुलिस 27 दिसंबर को उसे उस वक्त उठा ले आई, जब वह मजदूरी की छुट्टी के टाइम खाना खाने के लिए आया हुआ था। पूरे गांव ने पुलिस को बताया था कि यह परिवार ऐसा नहीं है। उन्होंने कहा कि इससे पहले साबिर अली न तो कभी पंजाब आया और न ही ये लोग कभी उसे मिलने के लिए गांव में आए। हमने तो इन लोगों को कभी देखा भी नहीं। घर की तलाशी में भी कुछ नहीं मिला।

लुधियाना के टूसा गांव के निवासी रामपाल की पत्नी हरजीत कौर, मामा बलवीर सिंह।
लुधियाना के टूसा गांव के निवासी रामपाल की पत्नी हरजीत कौर, मामा बलवीर सिंह।

डीजल मैकेनिक रामपाल के घरवालों का तर्क
उधर, रामपाल की पत्नी हरजीत कौर, मामा बलवीर सिंह निवासी हांव भैणी दरेड़ा और मामा के लड़का मेहर सिंह निवासी बोपाराय कलां भी कोर्ट पहुंचे हुए थे। उन्होंने कहा कि रामपाल 5 वर्ष पहले कुवैत से वापस आया था। अब मेहनत-मजदूरी करके अपना परिवार पाल रहा है। डीजल मैकेनिक काम जानने के चलते कभी-कभी हलवारा एयरबेस में काम करने जाता था। लॉकडाउन के चलते काम बंद हो गया और पिछले 8 महीने से वह एयरबेस में नहीं गया है। इससे पहले भी बुलाने पर कोई काम करने जाता था तो वहां फोन अंदर ले जाने की अनुमति नहीं होने के चलते वह उसे घर पर ही छोड़कर जाता था।

ऐसे में उसने कहां से हलवारा एयरबेस के नक्शे तैयार कर दिए। रामपाल को केवल उसके साथ काम करने वाले दोस्तों का फोन कभी-कभी आता था। इसके अलावा उसके इसी तरह के संबंध आतंकियों से नहीं हैं। इतना ही नहीं, गांव के दूसरी तरफ रहते सुक्खा के परिवार के साथ भी कभी आना-जाना नहीं है। हिमाचल के साबिर अली को कभी उन्होंने नहीं देखा। न तो वह उससे मिलने नहीं आया और न ही रामपाल कभी हिमाचल गया है।

पांच दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली, इसीलिए बढ़वाया रिमांड
इस घटना को लेकर बड़ी बात यह भी है कि पिछले पांच दिन से तीनों के रिमांड पर चल रहने होने के बावजूद अभी तक पुलिस के हाथ कोई पुख्ता जानकारी नहीं लगी है। इसी के चलते तीनों को दोबारा रिमांड पर लिया गया है। कोर्ट में पेशी के दौरान रामपाल के वकील ने कोर्ट में दलील दी कि पुलिस इन लोगों से सभी तरह की पूछताछ कर चुकी है और कुछ बाकी नहीं रहा। ऐसे में अब इनका रिमांड और नहीं बढ़ाया जाना चाहिए। इसके अलावा वकील ने कहा कि जब 30 दिसंबर को इनका रिमांड हासिल किया था तो इन्हें अमृतसर स्थित इंटेरोगेशन सेंटर भेजे जाने की बात कही गई थी। वहां भेजने पर गहराई से पूछताछ हो चुकी है।

उधर अदालत ने पुलिस अधिकारी से और रिमांड मांगने का कारण पूछा तो अधिकारी सिर्फ यह ही कह सका कि सुक्खा से पहले .315 बोर का पिस्तौल ही बरामद किया था। इसके इन लोगों से देश की सुरक्षा के संबंध में और गहराई से पूछताछ की जानी है, इसलिए इनकी पुलिस हिरासत में पूछताछ जरूरी है। पहले फैसला सुरक्षित रखते हुए कोर्ट ने दोपहर बाद तीनों को फिर से 3 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज ग्रह गोचर और परिस्थितियां आपके लिए लाभ का मार्ग खोल रही हैं। सिर्फ अत्यधिक मेहनत और एकाग्रता की जरूरत है। आप अपनी योग्यता और काबिलियत के बल पर घर और समाज में संभावित स्थान प्राप्त करेंगे। ...

और पढ़ें