पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Painful Road Accident In Abohar Abohar Two People Of Gurdaspur Returning With Lemon From Rajasthan Died, Loaded Canter Collided With Tree

अबोहर में दर्दनाक सड़क हादसा:राजस्थान से नींबू लेकर लौट रहे गुरदासपुर के दो लोगों की मौत, पेड़ से टकराया लोडिड कैंटर

अबोहर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अबोहर के नजदीकी गांव मौजगढ़ में हादसे के बाद कैंटर के कैबिन में पड़ी युवक की लाश। - Dainik Bhaskar
अबोहर के नजदीकी गांव मौजगढ़ में हादसे के बाद कैंटर के कैबिन में पड़ी युवक की लाश।

अबोहर के नजदीकी गांव मौजगढ़ में बीती देर रात एक कैंटर के पेड़ से टकराने के कारण कैंटर के चालक परिचालक की दर्दनाक मौत हो गई। मृतकों के शव पुलिस ने सरकारी अस्पताल की मोर्चरी में रखवाते हुए आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। बताया जाता है कि दोनों मृतकों के दो दो बच्चे थे, और इस हादसे के कारण उन बच्चों के सिर से पिता का साया उठ गया।

मिली जानकारी के अनुसार गुरदासपुर के गांव कसजी निवासी बलराज पुत्र दलीप कुमार आयु करीब 40 वर्ष व उसका साथी ट्रक मालिक गांव भूबिंया निवासी पलविंदर सिंह पुत्र महेन्द्र सिंह आयु 35 वर्ष गत रात्रि कैंटर में नींबू लादकर राजस्थान से जालंधर के लिए रवाना हुए। जब उनका केंटर मौजगढ़ गांव के निकट पहुंचा तो अचानक उनका कैंटर अनियंत्रित होकर सड़क किनारे पेड़ से जा टकराया। जिससे दोनों की ही मौके पर दर्दनाक मौत हो गई। आसपास के लोगों ने इस बात की सूचना पुलिस को दी, जिस पर खुईयां सरवर की पुलिस टीम मौके पर पहुंची और मृतकों के शवों को पोस्टर्माटम के लिए सरकारी अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया।

पोस्टमॉर्टम प्रक्रिया के दौरान मोर्चरी पहुंचे परिजन।
पोस्टमॉर्टम प्रक्रिया के दौरान मोर्चरी पहुंचे परिजन।

इधर बलराज के मामा के बेटे सर्बजीत सिंह व पलिंवदर सिंह की माता कशमीर कौर ने बताया कि वे दोनों ही पिछले 20 वर्षों से मिलकर कैंटर चलाने का कार्य करते थे। रोजाना की भांति अपने काम पर गए थे कि यह हादसा पेश आ गया। घटना की सूचना मिलने पर वे यहां पर पहुंचें। कश्मीर कौर ने अपनी दुखभरी दास्तां में बताया कि पलविंदर के बडे भाई की भी एक वर्ष पहले ही सड़क हादसे में मौत हो चुकी है और अब दूसरे की भी मौत हो गई है।

कश्मीर कौर ने बताया कि उसका पोता भी विकलांग है और अब उसके दोनों बेटों की मौत होने से वह लावारिस हो चुके हैं। ऐसे में उनका घर चलाना भी मुश्किल हो जाएगा। उन्होंने प्रशासन से उन्हें मुआवजा दिलवाने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...