MLA के 2 विवाह केस में महिला आयोग की एंट्री:​​​​​​​चेयरपर्सन ने 7 दिन में जवाबतलबी की; पत्नी ने खोली AAP विधायक की पोल

चंडीगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सनौर से आम आदमी पार्टी के सनौर से विधायक हरमीत पठानमाजरा के 2 विवाह मामले में राज्य महिला आयोग की एंट्री हो गई है। आयोग की चेयरपर्सन मनीष गुलाटी ने लोकल प्रशासन से इसकी रिपोर्ट तलब कर ली है। इसके लिए 7 दिन का वक्त दिया गया है।

चेयरपर्सन मनीषा गुलाटी ने कहा कि पठानमाजरा विधायक होने की वजह से पब्लिक फिगर हैं। अगर उन पर आरोप लग रहे हैं तो यह गंभीर मामला है। वह समाज के प्रतिनिधि हैं तो उनकी जवाबदेही ज्यादा बनती है। इसलिए हमने इसका संज्ञान लिया है। इसलिए प्रशासन को दोनों पक्षों की जांच कर रिपोर्ट देने को कहा गया है।

पंजाब महिला आयोग की चेयरपर्सन मनीषा गुलाटी।
पंजाब महिला आयोग की चेयरपर्सन मनीषा गुलाटी।

पंचायती तलाक को नकारा
महिला आयोग की चेयरपर्सन ने पंचायती तलाक को नकार दिया। उन्होंने कहा कि यह कानूनी तौर पर मान्य नहीं है। उन्होंने कहा कि पंचायती स्तर पर तलाक हो जाते हैं लेकिन उसे कानूनी जामा पहनना जरूरी होता है। विधायक ने पहली पत्नी को कानूनी तौर पर तलाक दिए बगैर ही दूसरी शादी की थी।

जरूरत पड़ी तो दोनों को बुलाएंगे
मनीषा गुलाटी ने कहा कि हमारी नजर में पति-पत्नी एक समान हैं। हमारी कोशिश रहेगी कि मामले का हल निकाला जाए। जरूरत पड़ी तो दोनों को बुलाकर समझाएंगे। पत्नी के धमकाने के आरोप पर गुलाटी ने कहा कि गलत काम करने वाले को सरकार सपोर्ट नहीं करती। अगर विधायक की गलती हुई तो सरकार को लिखेंगे और उनका सपोर्ट भी लेंगे। फिलहाल यह सब आरोप हैं, जांच रिपोर्ट आने के बाद ही आगे कुछ कहा जा सकता है।