• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Punjab Baba Farid University Controversy; Vice Chancellor Raj Bahadur Humiliated, Health Minister Chetan Singh Jauramajra

पंजाब में VC के अपमान पर फंसी AAP सरकार:​​​​​​​जौड़ामाजरा के मंत्रालय में बदलाव संभव; हिमाचल चुनाव का दबाव बढ़ा तो जाएगी कुर्सी

चंडीगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बाबा फरीद मेडिकल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर (VC) के अपमान को लेकर आम आदमी पार्टी(AAP) सरकार फंस गई है। डैमेज कंट्रोल के लिए सेहत मंत्री चेतन सिंह जौड़ामाजरा का मंत्रालय बदला जा सकता है। डॉक्टर और उनसे जुड़े संगठन लगातार इसका विरोध कर रहे हैं।

वहीं अगर हिमाचल प्रदेश में चुनाव का दबाव बढ़ा तो जौड़ामाजरा की छुट्‌टी भी की जा सकती है। मंत्री के हाथों अपमानित हुए VC डॉ. राज बहादुर हिमाचल के ही रहने वाले हैं। जहां अगले विस चुनाव में आप पूरा जोर लगा रही है। डॉ. राज बहादुर ने मंत्री के अपमानित किए जाने के बाद आधी रात को इस्तीफा दे दिया था।

पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड के बाद यह दूसरा मौका है, जब आप बुरी तरह से घिरी है। मूसेवाला मर्डर की वजह से आप को संगरूर लोकसभा सीट गंवानी पड़ी। यह सीट सीएम भगवंत मान का गढ़ थी। हालांकि मूसेवाला की सिक्योरिटी घटाने के अगले ही दिन कत्ल होने से यूथ आप के खिलाफ हो गया।
पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड के बाद यह दूसरा मौका है, जब आप बुरी तरह से घिरी है। मूसेवाला मर्डर की वजह से आप को संगरूर लोकसभा सीट गंवानी पड़ी। यह सीट सीएम भगवंत मान का गढ़ थी। हालांकि मूसेवाला की सिक्योरिटी घटाने के अगले ही दिन कत्ल होने से यूथ आप के खिलाफ हो गया।

ऊना के रहने वाले डॉ. राज बहादुर
डॉ. राज बहादुर एशिया के बैस्ट स्पाइनल सर्जन में से एक हैं। वह मूल रूप से हिमाचल प्रदेश के ऊना के रहने वाले हैं। उन्होंने स्पाइनल की पहली सर्जरी भी 1976 में शिमला में की थी। वह 2 साल ब्रिटेन में भी काम कर चुके। 1984 से वह लगातार स्पाइनल और जॉइंट हिप रिप्लेसमेंट की सर्जरी कर रहे हैं। अब तक वह 15 हजार से ज्यादा सर्जरी कर चुके हैं। कोरोना के वक्त भी खुद पॉजिटिव आने के बावजूद उन्होंने राज्य के लिए कामयाब गाइडलाइंस तैयार की थी। वह 45 साल में 13 बड़े हेल्थ इंस्टीट्यूशंस में काम कर चुके हैं।

मुख्यमंत्री ने मुलाकात न कर दिए संकेत
चेतन सिंह जौड़ामाजरा की कारगुजारी से सीएम भगवंत मान खुश नहीं हैं। वाइस चांसलर को फटे-गंदे गद्दे पर लिटाने के बवाल के बाद वह सीएम से मिलने आए थे। सीएम भगवंत मान ने जौड़ामाजरा से मुलाकात नहीं की। जिससे साफ है कि जौड़ामाजरा के रवैये से पार्टी के भीतर भी नाराजगी है। इसी वजह से मंत्री ने भी चुप्पी साध रखी है।

VC के खिलाफ IT सेल एक्टिव लेकिन डॉक्टरों का दबाव बढ़ रहा
वाइस चांसलर विवाद के बाद आम आदमी पार्टी का IT सेल एक्टिव हो गया। वह लगातार वीसी की कारगुजारी पर सवाल उठा रहे हैं। हालांकि डॉक्टरों का दबाव सरकार पर बढ़ रहा है। इसकी बड़ी वजह यह है कि अगर मंत्री को कुछ कमी नजर आई भी तो उनके वीसी के साथ व्यवहार को लेकर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। सरकार पर यह भी सवाल है कि जब उन्होंने स्थिति सुधारने के लिए कुछ फंड ही नहीं दिया तो फिर सिर्फ वीसी पर भड़कने से क्या फायदा होगा?। अगर पहले व्यवस्था में कमी थी तो तभी पंजाबियों ने कांग्रेस और अकाली दल को नकारकर उन्हें सत्ता सौंपी।