पंजाब में 6,000 करोड़ का ड्रग्स रैकेट केस:हाईकोर्ट के 2 जज सुनवाई से हटे; नई बैंच बनाएंगे चीफ जस्टिस

चंडीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इंटरनेशनल रेसलर जगदीश भोला इस रैकेट का मास्टरमाइंड बताया गया। वह अर्जुन अवॉर्ड विजेता है। पंजाब पुलिस में वह DSP के तौर पर भर्ती हुआ था। - Dainik Bhaskar
इंटरनेशनल रेसलर जगदीश भोला इस रैकेट का मास्टरमाइंड बताया गया। वह अर्जुन अवॉर्ड विजेता है। पंजाब पुलिस में वह DSP के तौर पर भर्ती हुआ था।

पंजाब के हाईप्रोफाइल 6000 करोड़ के ड्रग्स रैकेट केस की सुनवाई से हाईकोर्ट के 2 जजों ने खुद को अलग कर लिया है। जस्टिस एजी मसीह जस्टिस आलोक कुमार सुनवाई से हट गए हैं। जस्टिस आलोक कुमार ने कहा कि वह इस मामले में केंद्र के वकील रह चुके हैं। इस वजह से वह सुनवाई से अलग हुए हैं। चीफ जस्टिस की तरफ अब इस मामले में नई बैंच बनाई जाएगी।

इसी रैकेट में आया था मजीठिया का नाम
हाल ही में जेल से छूटे पूर्व मंत्री बिक्रम मजीठिया का नाम इसी ड्रग्स रैकेट में आया था। 2012 में शुरू हुए इस केस में पहली FIR फतेहगढ़ साहिब में दर्ज की गई और शुरुआती स्टेज में यह केस भी दूसरे सामान्य मामलों की तरह लगा। इसमें सियासी भूचाल तब मचा जब 2014 में पेशी पर आए केस के मुख्य आरोपी और पंजाब पुलिस के बर्खास्त DSP जगदीश भोला ने तत्कालीन रेवेन्यू मिनिस्टर बिक्रम सिंह मजीठिया का नाम ले लिया। तब उन्हें क्लीन चिट मिल गई। मजीठिया के खिलाफ पिछली कांग्रेस सरकार ने केस दर्ज कर उन्हें जेल भेजा।

भोला समेत 19 को हो चुकी सजा
सिंथेटिक ड्रग तस्करी मामले में फतेहगढ़ साहिब और बनूड़ थाने में सबसे पहले 2 केस दर्ज हुए। उसके बाद पंजाब के अलग-अलग जिलों में 5 और केस दर्ज किए गए। इनमें से 4 मामलों में जगदीश भोला बरी हो गया जबकि 3 अन्य केसों में जगदीश भोला को 10, 12 और 2 साल की सजा हुई। भोला के अलावा 18 अन्य लोगों को भी इन केसों में 6 महीने से 15 साल तक की कैद हो चुकी है। इस मामले में 51 लोग गिरफ्तार किए गए थे। जिनसे 71 वाहन, 13 हथियार और भारी मात्रा में सिंथेटिक ड्रग बरामद की गई।

पंजाब के हाईप्रोफाइल ड्रग रैकेट की पूरी कहानी...

खबरें और भी हैं...