पंजाब पुलिस का बड़ा दावा:नशा करते पकड़े गए या थोड़ा नशा मिला तो कानूनी माफी संभव; नशामुक्त होना पड़ेगा

चंडीगढ़4 महीने पहले

पंजाब में अगर कोई नशा पीते पकड़ा गया या उससे थोड़ी मात्रा में नशा मिला तो वह कानूनी माफी ले सकता है। सोमवार को पंजाब पुलिस हेडक्वार्टर में IG डॉ. सुखचैन सिंह गिल ने यह जानकारी दी। डॉ. गिल ने कहा कि NDPS एक्ट की 64A में यह प्रोविजन है। पकड़ा गया व्यक्ति रिहेबलिटेशन केंद्र जाकर नशा छोड़ सकता है। कानून में उसे माफी मिल सकती है।

उन्होंने कहा कि कुछ को गलतफहमी है कि अगर वह कबूल कर लेंगे तो उन्हें सजा हो जाएगी लेकिन ऐसा नहीं है। इसमें पर्चा दर्ज होने के बाद कोर्ट में पेश किया जाता है। वह कोर्ट में कमिटमेंट देगा और डी-एडिक्शन सेंटर जाकर ट्रीटमेंट पूरा करता है तो उसे सजा नहीं होगी।

पत्रकारों से बात करते IG डॉ. सुखचैन सिंह गिल।
पत्रकारों से बात करते IG डॉ. सुखचैन सिंह गिल।

किस ड्रग्स की थोड़ी मात्रा कितनी
इस एक्ट के तहत माफी के योग्य वही होंगे, जिनसे कानून तय ड्रग्स की थोड़ी मात्रा मिलेगी। IG डॉ. गिल ने बताया कि कानून के हिसाब से हेरोइन की 5 ग्राम से कम थोड़ी मात्रा मानी जाती है। हर ड्रग्स की इसी तरह की मात्रा है। अफीम की 25 ग्राम और चूरा पोस्त की 1 किलो से नीचे वाले माफी पा सकते हैं।

महिलाओं और पब्लिक ट्रांसपोर्ट के जरिए तस्करी
पंजाब में ड्रग स्मगलर्स ने नशा तस्करी के लिए नया ट्रेंड अपना लिया है। नशा सप्लाई के लिए महिलाओं का इस्तेमाल किया जा रहा है। अपनी गाड़ी के बजाय तस्कर अब पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल कर रहे हैं। जिसमें ज्यादातर बसों का इस्तेमाल हो रहा है। पंजाब पुलिस के IG हेडक्वार्टर डॉ. सुखचैन सिंह गिल ने इसकी पुष्टि की। डॉ. गिल ने कहा कि इन्हें ट्रैक करने के लिए अब ज्यादा ह्यूमन इंटेलिजेंस की जरूरत पड़ रही है।

CP-SSP को DGP का सख्त ऑर्डर, टॉप स्मगलर पकड़ो
डीजीपी गौरव यादव ने पंजाब के सभी पुलिस कमिश्नर और SSP को सख्त ऑर्डर जारी किए हैं। जिसमें उन्हें टॉप स्मगलर और नशे के हॉटस्पॉट इलाकों पर कार्रवाई को कहा गया है। स्मगलरों को पकड़ने के लिए कॉम्बिंग ऑपरेशन चलाने को कहा गया है। उन्होंने पुलिस चीफ को कहा कि ड्रग स्मगलर की प्रॉपर्टी को जब्त करने की कार्रवाई भी तेज की जाए।