हरियाणा का 'हनीट्रैप गैंग' गिरफ्तार:मोहाली के स्टूडेंट को किडनैप कर 50 लाख फिरौती मांगी; फेक प्रोफाइल से फ्रैंडशिप कर मिलने बुलाया था

चंडीगढ़4 महीने पहले

पंजाब पुलिस ने हरियाणा के 'हनीट्रैप गैंग' को गिरफ्तार किया है। गैंग में 2 युवक और एक लड़की शामिल है। तीनों ने मोहाली की चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट को किडनैप कर 50 लाख की फिरौती मांगी थी। पुलिस ने किडनैप स्टूडेंट को छुड़ा लिया है। गैंग की लड़की ने फेक प्रोफाइल बनाकर स्टूडेंट से फ्रैंडशिप की। फिर मिलने बुलाकर उसे किडनैप कर लिया। किडनैप किए स्टूडेंट को खरड़ से बरामद करने के बाद परिवार को सौंप दिया गया है।

रोपड़ रेंज के DIG गुरप्रीत भुल्लर ने बताया कि चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के BE स्टूडेंट हितेश को किडनैप कर लिया गया था। उसे खरड़ के रणजीत नगर में एक किराए के कमरे में रखा गया था। इसकी शिकायत मिलने के बाद पुलिस एक्शन में आई और 48 घंटे में युवक को छुड़ा लिया गया।

गैंग के पकड़े मेंबर और उनके बारे में जानकारी देते डीआईजी गुरप्रीत भुल्लर और SSP विवेकशील सोनी।
गैंग के पकड़े मेंबर और उनके बारे में जानकारी देते डीआईजी गुरप्रीत भुल्लर और SSP विवेकशील सोनी।

हनीट्रैप गैंग : सोनीपत की लड़की, पानीपत और सिरसा के लड़के
डीआईजी गुरप्रीत भुल्लर ने बताया कि गैंग के 3 मेंबरों को गिरफ्तार किया है। इनमें अजय कादियां पानीपत के गांव जट्‌टल का रहने वाला है। दूसरा किडनैपर सिरसा के आबूद का अजय है। इनके साथ सोनीपत के गांव बरोली की राखी तीसरी किडनैपर है। पुलिस ने इनसे होंडा सिटी कार, 5 मोबाइल और 9 कारतूस के साथ .32 बोर की पिस्टल बरामद की है।

राखी ने फ्रैंडशिप कर फंसाया
पुलिस जांच में पता चला कि सोनीपत की राखी ने फेसबुक और इंस्टाग्राम पर फेक प्रोफाइल बना रखा था। जिसके जरिए वह अच्छे घर के स्टूडेंट्स से दोस्ती करती है। उनसे अंतरंग बातें करती है। उसके घर और परिवार की स्थिति के बारे में सब कुछ पता कर लेती है। जब युवक उसके भरोसे में आ जाता है तो उसे मिलने के लिए बुलाती है। वहां पर उसके बाकी 2 साथी भी होते हैं। जो युवक को किडनैप कर फिर उसके परिवार से फिरौती मांगते हैं। इसी तरह इस स्टूडेंट को भी फंसाया गया था।

50 लाख से कम पर राजी नहीं हुए
हितेश के पिता ने बताया कि उन्हें बेटे के मोबाइल नंबर से ही कॉल कर फिरौती मांगी गई। उन्होंने कहा कि वह नौकरीपेशा आदमी है। 50 लाख रुपया नहीं दे सकते। उन्होंने पहले 2 लाख, फिर 5 लाख और अंत में 8 लाख लेने को कहा लेकिन किडनैपर नहीं माने। जिसके बाद उन्होंने पुलिस को इसकी शिकायत कर दी।

स्टूडेंट को लगातार बेहोश कर बांधे रखा

डीआईजी ने बताया कि स्टूडेंट को लड़की ने पंजाब मॉल के पास बुलाया। वहां कार में बिठाकर उस पर काबू कर लिया। फिर उसकी आंखों में मिर्ची झोंक बेहोशी का इंजेक्शन दे दिया। इसके बाद उसे रणजीत नगर में किराए के फ्लैट में ले जाकर बांध दिया। इसके बाद उसे लगातार बेहोश रखते रहे। कभी इंजेक्शन तो कभी पानी में बेहोशी की दवा घोलकर पिलाते रहे। किडनैपर अजय कादियान फार्मासिस्ट रह चुका है जबकि अजय MBBS की पढ़ाई कर रहा है। इसलिए दोनों को बेहोशी की दवा पता थी।

गिरफ्तारी में हरियाणा पुलिस की भी मदद मिली
मोहाली के एसएसपी विवेकशील सोनी ने बताया कि आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए डीएसपी गुरशेर सिंह और CIA इंचार्ज शिव कुमार की टीम बनाई गई थी। इन्हें कुरुक्षेत्र की CIA टीम की भी मदद मिली। जिसकी बदौलत गैंग मेंबरों को गिरफ्तार कर स्टूडेंट को सकुशल छुड़ा लिया गया। किडनैपर की पहचान और गिरफ्तारी में अंबाला, हरिद्वार और गाजियाबाद पुलिस की भी मदद मिली।