पंजाब में अफसरों के धर्म पर सियासत:कांग्रेस बोली- CS, DGP, AG में कोई सिख नहीं; BJP ने पूछा- हिंदू CM क्यों नहीं बनाया?

चंडीगढ़6 महीने पहलेलेखक: मनीष शर्मा
  • कॉपी लिंक

पंजाब में सियासी कलह काबिलियत की जगह अफसरों के धर्म तक पहुंच गई है। कांग्रेस ने पंजाब के टॉप थ्री अफसरों चीफ सेक्रेटरी (CS), पुलिस महानिदेशक (DGP) और एडवोकेट जनरल (AG) में कोई सिख न होने को लेकर सवाल खड़े किए हैं। आल इंडिया किसान कांग्रेस के चेयरमैन विधायक सुखपाल खैहरा ने इस पर सरकार को घेरा। वहीं भाजपा ने खैहरा के बहाने कांग्रेस को घेर लिया।

भाजपा प्रवक्ता सुभाष शर्मा ने पूछा कि 1966 से आज तक पंजाब में कोई हिंदू CM क्यों नहीं बना?। उन्होंने सुखपाल खैहरा से इस पर जवाब मांग लिया। वहीं आम आदमी पार्टी या CM भगवंत मान ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

पंजाब के CM भगवंत मान।
पंजाब के CM भगवंत मान।

अफसरों के बहाने केजरीवाल और मान पर निशाना
सुखपाल खैहरा ने कहा कि भारत एक सेक्युलर देश है। समाज के हर तबके को बनता प्रतिनिधित्व देना चाहिए। दुर्भाग्य से अरविंद केजरीवाल की तरफ से चलाई जा रही भगवंत मान सरकार ने टॉप थ्री पोजिशन में एक भी सिख अफसर को नियुक्त नहीं किया। क्या सिख अफसर कंपीटेंट नहीं हैं।

कांग्रेस MLA सुखपाल खैहरा का ट्वीट।
कांग्रेस MLA सुखपाल खैहरा का ट्वीट।

भाजपा का जवाब : कांग्रेस हमेशा हिंदू-सिख को बांटती है
भाजपा महासचिव ने इसका जवाब देते हुए कहा कि कांग्रेस ने हमेशा हिंदू-सिख को बांटने की कोशिश की। सुखपाल खैहरा को एतराज है कि चीफ सेक्रेटरी, डीजीपी और एडवोकेट जनरल हिंदू हैं। उनका सवाल है कि क्या कोई सिख अफसर काबिल नहीं?। मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि 1966 से अब तक हिंदू सीएम नहीं बना, क्या कोई हिंदू नेता काबिल नहीं था या नहीं है?।

भाजपा के महासचिव सुभाष शर्मा ने खैहरा पर पलटवार किया।
भाजपा के महासचिव सुभाष शर्मा ने खैहरा पर पलटवार किया।

पंजाब में रही एक हिंदू और एक सिख अफसर की परंपरा
पंजाब में डीजीपी और चीफ सेक्रेटरी को लेकर अक्सर यह परंपरा रही है कि एक पद पर सिख तो दूसरे पर हिंदू अफसर की तैनाती की जाती थी। हालांकि कैप्टन अमरिंदर सिंह के दूसरे मुख्यमंत्री टर्म में दिनकर गुप्ता और विनी महाजन यानी दोनों हिंदू अफसर लगा दिए गए। आप सरकार में अब चीफ सेक्रेटरी विजय कुमार जंजुआ, डीजीपी गौरव यादव लगाए गए हैं। एडवोकेट विनोद घई को नया AG लगाया जा रहा है।

दिग्गज कांग्रेसी रहे सुनील जाखड़ ने कहा था कि कैप्टन को हटाने के बाद कराई वोटिंग में सबसे ज्यादा विधायक उन्हें सीएम बनाने के पक्ष में थे। सिर्फ हिंदू होने की वजह से उन्हें CM नहीं बनाया गया।
दिग्गज कांग्रेसी रहे सुनील जाखड़ ने कहा था कि कैप्टन को हटाने के बाद कराई वोटिंग में सबसे ज्यादा विधायक उन्हें सीएम बनाने के पक्ष में थे। सिर्फ हिंदू होने की वजह से उन्हें CM नहीं बनाया गया।

हिंदू CM कांग्रेस की दुखती रग
हिंदू सीएम की बात कांग्रेस की दुखती रग है। इसको लेकर विधानसभा चुनाव के वक्त कांग्रेस में खूब घमासान मचा। राहुल गांधी सुनील जाखड़ को मुख्यमंत्री बनाना चाहते थे। हालांकि कथित तौर पर अंबिका सोनी ने इसका विरोध किया। उन्होंने सिख स्टेट-सिख सीएम की बात कहकर फैसला बदलवा दिया। इसके बाद जाखड़ ने यह मुद्दा खूब उठाया। जिसका नुकसान विस चुनाव में कांग्रेस को उठाना पड़ा। अब जाखड़ कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हो चुके हैं।