विधानसभा में मूसेवाला हत्याकांड पर घिरी सरकार:​​​​​​​कांग्रेस और अकाली दल ने सरकार को ठहराया जिम्मेदार; सिक्योरिटी घटाने और सार्वजनिक करने पर सवाल

चंडीगढ़5 महीने पहले
विधानसभा में बोलते सीएम भगवंत मान।

पंजाब विधानसभा के बजट सेशन के पहले दिन आम आदमी पार्टी (AAP) सरकार पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या पर घिर गई। कांग्रेस और अकाली दल ने सरकार को इसका जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि इंटेलिजेंस इनपुट होने के बावजूद मूसेवाला की सिक्योरिटी घटाई गई। इसके बाद उसे सार्वजनिक भी कर दिया गया। जिसके बाद मूसेवाला की हत्या हो गई। वहीं आज के विधानसभा सेशन की कार्रवाई खत्म हो गई है। कल सुबह फिर सेशन की कार्रवाई शुरू होगी। यह सेशन 30 जून तक चलेगा।

सिद्धू मूसेवाला की 29 मई को मानसा में थार जीप से जाते वक्त गोलियां मार हत्या की गई थी।
सिद्धू मूसेवाला की 29 मई को मानसा में थार जीप से जाते वक्त गोलियां मार हत्या की गई थी।

IB अलर्ट था, दिल्ली पुलिस ने भी बताया, फिर भी सिक्योरिटी घटाई : वड़िंग
कांग्रेस विधायक अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने कहा कि एक साल पहले इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) का अलर्ट आया था। जिसमें मूसेवाला को हाइएस्ट थ्रैट बताया गया था। कांग्रेस सरकार ने उसे 10 कमांडों दिए थे। फिर गैंगस्टर शाहरूख ने भी कहा कि वह मूसेवाला को मारने गए थे। मगर, वहां कमांडों देख लौट आए। फिर आप सरकार ने पहले 10 गनमैन घटाकर 4 कर दिए। फिर बिना देखे उनके पास सिर्फ 2 गनमैन छोड़ दिए गए। इसके बारे में सार्वजनिक तौर पर भी बता दिया।

विधानसभा में बोलते कांग्रेस विधायक अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग।
विधानसभा में बोलते कांग्रेस विधायक अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग।

यह बहुत बड़ी गलती, सरकार गलती कबूल करे: बाजवा
विपक्षी दल नेता प्रताप सिंह बाजवा ने कहा कि दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने पंजाब पुलिस को अलर्ट किया था कि मूसेवाला की हत्या की साजिश रची जा रही है। मूसेवाला की सिक्योरिटी घटा दी गई। यह बहुत बड़ी गलती है। उसे कबूल करना चाहिए। सिक्योरिटी की जानकारी सार्वजनिक करने का अंजाम मूसेवाला की हत्या है। बाजवा ने कहा कि मूसेवाला की सिक्योरिटी क्यों कम गई?। बाजवा ने कहा कि मूसेवाला की हत्या की साजिश तिहाड़ जेल में रची गई। लॉरेंस वहां फोन यूज कर रहा था। यह जेल दिल्ली CM अरविंद केजरीवाल के अधीन आती है।

विधानसभा में बोलते विपक्षी दल नेता प्रताप सिंह बाजवा ।
विधानसभा में बोलते विपक्षी दल नेता प्रताप सिंह बाजवा ।

सरकार ही जिम्मेदार : अयाली
अकाली दल के विधायक मनप्रीत अयाली ने भी मूसेवाला की हत्या के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि मूसेवाला की सिक्योरिटी घटाई गई और फिर इसे सार्वजनिक कर दिया गया।

विधानसभा में बोलते अकाली विधायक मनप्रीत अयाली।
विधानसभा में बोलते अकाली विधायक मनप्रीत अयाली।

लॉ एंड ऑर्डर पर हंगामा, बाजवा बोले- कोई गोली मार देगा

पंजाब विधानसभा के बजट सत्र में हंगामा हो गया है। विपक्षी दल पंजाब में लॉ एंड ऑर्डर के मुद्दे पर बहस करवाने पर अड़ गए हैं। उनका कहना है कि जहां सीएम भगवंत मान कह रहे हों कि मेरी जान खतरे में है तो फिर पंजाब में कौन सुरक्षित होगा। इस मुद्दे पर बहस होनी चाहिए।

स्पीकर कुलतार संधवां ने बाजवा को कहा कि उन्हें काफी तजुर्बा है। इस पर कल सीएम बयान देंगे। इस पर बाजवा बोले कि सब तजुर्बा धरा रह जाएगा, अगर किसी ने शाम को गोली मार दी। हालांकि स्पीकर के आदेश पर इसके बाद राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा शुरू कर दी गई। इसी दौरान कुछ कांग्रेसी सदन से बाहर निकल गए।

विधानसभा में बोलते आप विधायक अमन अरोड़ा।
विधानसभा में बोलते आप विधायक अमन अरोड़ा।

इससे पहले सुबह पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला समेत 11 ​​​​​​ बिछड़ी आत्माओं को श्रद्धांजलि दी गई। 13 मिनट की कार्रवाई के बाद सदन की कार्रवाई 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई थी।

पंजाब विधानसभा में बिछड़े लोगों को श्रद्धांजलि देते सीएम भगवंत मान और दूसरे विधायक।
पंजाब विधानसभा में बिछड़े लोगों को श्रद्धांजलि देते सीएम भगवंत मान और दूसरे विधायक।

11 लोगों को दी गई श्रद्धांजलि

  • सिद्धू मूसेवाला, सिंगर
  • हरदीपइंदर बादल, पूर्व मंत्री
  • तोता सिंह, पूर्व मंत्री
  • सुखदेव सुखलद्धी, पूर्व MLA
  • शिंगारा राम, पूर्व MLA
  • तारा सिंह, स्वतंत्रता सेनानी
  • स्वर्ण सिंह, स्वतंत्रता सेनानी
  • करोड़ा सिंह, स्वतंत्रता सेनानी
  • सुखराज सिंह, स्वतंत्रता सेनानी
  • गुरचरन भंगू, पर्वतारोही
  • हरी चंद, एथलीट
श्रद्धांजलि के दौरान विस स्पीकर कुलतार संधवां
श्रद्धांजलि के दौरान विस स्पीकर कुलतार संधवां

27 जून को बजट पेश करेगी पंजाब सरकार

27 जून को पंजाब की आम आदमी पार्टी (AAP) सरकार अपना पहला बजट पेश करेगी। यह बजट पेपरलेस होगा। विधायकों को मोबाइल एप के जरिए बजट उपलब्ध कराया जाएगा। विस सेशन में CM भगवंत मान की अगुआई वाली सरकार वन MLA-वन पेंशन और कच्चे कर्मचारियों को परमानेंट करने का प्रस्ताव लाएगी। इस दौरान विपक्ष ने लॉ एंड ऑर्डर के मुद्दे पर सरकार को घेरने की तैयारी कर रखी है।

गवर्नर ने लौटाया था ऑर्डिनेंस
मान सरकार ने पहले वन MLA-वन पेंशन का ऑर्डिनेंस पास किया था। जिसे मंजूरी के लिए गवर्नर को भेजा गया। हालांकि गवर्नर ने यह कहते हुए लौटा दिया कि इसे विधानसभा से पास करवाकर भेजें। जिसके बाद आज से शुरू हो रहे सत्र में ही इसे पास किया जाएगा।

बजट में फ्री बिजली और स्कूल-हेल्थ पर नजर
बजट में मान सरकार फ्री बिजली को लेकर भी प्रावधान करेगी। सीएम भगवंत मान घोषणा कर चुके हैं कि जुलाई से हर घर को प्रतिमाह 300 यूनिट बिजली मुफ्त मिलेगी। इसके अलावा स्कूल और हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर को लेकर भी बजट में बड़ी व्यवस्था की जा सकती है।