मूसेवाला के कातिलों के जश्न का VIDEO:मर्डर के बाद पंजाबी गाने रब ने मेहर कर दी पर पिस्टल लहराईं; अंकित के मोबाइल से मिला वीडियो

चंडीगढ़एक महीने पहलेलेखक: मनीष शर्मा

29 मई को सिद्धू मूसेवाला के मर्डर के बाद कातिलों ने जमकर जश्न मनाया था। पुलिस ने इसका वीडियो अंकित सेरसा के मोबाइल से बरामद किया है। वीडियो में शार्प शूटर प्रियवर्त फौजी कार की आगे वाली सीट पर बैठा हुआ है और सचिन भिवानी कार चला रहा है। शार्प शूटर अंकित सेरसा और दीपक मुंडी के साथ कपिल पंडित पीछे बैठे हथियार लहरा रहे हैं।

यह सब हत्या का जश्न मनाते नजर आ रहे हैं। कार में पंजाबी गाना रब ने मेहर कर दी... चल रहा है और यह सब किसी खेत वाले रास्ते से जा रहे हैं। जिन हथियारों की कातिल शार्प शूटर्स नुमाइश कर रहे हैं, उनका इस्तेमाल मूसेवाला की हत्या में हुआ था। वीडियो में पांचों आरोपी 15 से ज्यादा पिस्टल लहराते दिख रहे हैं।

वीडियो में नजर आ रहा प्रियवर्त फौजी कार की आगे वाली सीट पर पीछे की ओर मुंह करके बैठा था। उसके हाथ में 6 से ज्यादा पिस्टल दिख रहे हैं।
वीडियो में नजर आ रहा प्रियवर्त फौजी कार की आगे वाली सीट पर पीछे की ओर मुंह करके बैठा था। उसके हाथ में 6 से ज्यादा पिस्टल दिख रहे हैं।

6 शार्प शूटर्स ने किया था मूसेवाला का कत्ल
अभी तक की जांच में पता चला कि मूसेवाला की हत्या में 6 शार्प शूटर्स शामिल थे। इनमें प्रियवर्त फौजी, अंकित सेरसा, दीपक मुंडी, कशिश उर्फ कुलदीप, जगरूप रूपा और मनप्रीत मन्नु कुसा शामिल हैं। इनमें फौजी, कशिश और अंकित सेरसा गिरफ्तार हो चुके हैं। बाकियों की तलाश की जा रही है।

वीडियो में नजर आ रहे (दाएं से) कपिल पंडित, अंकित सेरसा और दीपक मुंडी ।
वीडियो में नजर आ रहे (दाएं से) कपिल पंडित, अंकित सेरसा और दीपक मुंडी ।

2 दिन बाद गायब किए गए हथियार
मूसेवाला की हत्या में जो भी हथियार इस्तेमाल हुए, उन्हें 2 दिन बाद यानी एक जून को कोई अनजान शख्स लेकर चला गया। इसकी भी पहले से ही प्लानिंग की गई थी। जिसके तहत यह हथियार गायब कर दिए गए। दिल्ली पुलिस उसकी तलाश कर रही है। वहीं कत्ल में इस्तेमाल AK 47 के बुलंदशहर से खरीदे जाने की पुष्टि नहीं की गई। इतना जरूर कहा गया कि दिल्ली पुलिस को अहम इनपुट मिले हैं।

वीडियो में नजर आ रहा सचिन भिवानी।
वीडियो में नजर आ रहा सचिन भिवानी।

29 मई को हुआ था मूसेवाला का मर्डर
मूसेवाला 29 मई को जब थार जीप से निकले तो कोरोना और बोलेरो में शार्प शूटर्स पहले से तैयार बैठे थे। उन्हें कनाडा बैठे लॉरेंस गैंग के गैंगस्टर गोल्डी बराड़ से निर्देश मिल चुके थे। इसके बाद उन्होंने कोरोला से मूसेवाला की थार का पीछा किया। आगे जाकर उन्होंने मूसेवाला की थार को ओवरटेक किया और AK 47 से ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। जिससे मूसेवाला की थार वहीं रुक गई। इसके बाद बोलेरो वाले शार्प शूटर्स भी वहां पहुंचे और ताबड़तोड़ गोलियां मारकर मूसेवाला की हत्या कर दी।