संगरूर उपचुनाव पर एक्शन में कांग्रेस:पूर्व MLA को पार्टी से निकाला; लोकसभा सीट जीतने के लिए 50 नेताओं की फौज तैनात की

चंडीगढ़4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पूर्व विधायक हरचंद कौर। जिन्हें चुनाव सिर पर होेने के बावजूद कांग्रेस ने पार्टी से निकाल दिया। - Dainik Bhaskar
पूर्व विधायक हरचंद कौर। जिन्हें चुनाव सिर पर होेने के बावजूद कांग्रेस ने पार्टी से निकाल दिया।

संगरूर लोकसभा सीट पर उपचुनाव जीतने के लिए कांग्रेस एक्शन में आ गई है। पंजाब कांग्रेस प्रधान अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने पूर्व विधायक हरचंद कौर को पार्टी से निकाल दिया। उन पर पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप लगाया गया। वहीं संगरूर सीट जीतने के लिए कांग्रेस ने 50 नेताओं की फौज उतार दी है। जिसमें पूर्व मंत्रियों और विधायकों को सीट जिताने का जिम्मा सौंपा गया है। कांग्रेस ने यहां से दलवीर गोल्डी को टिकट दी है। वह सीएम भगवंत मान से पिछला विस चुनाव हारे थे।

पूर्व विधायक को पार्टी से निकालने के पंजाब कांग्रेस प्रधान राजा वड़िंग के आदेश।
पूर्व विधायक को पार्टी से निकालने के पंजाब कांग्रेस प्रधान राजा वड़िंग के आदेश।

2 बार विधायक रह चुकी, पिछला विस चुनाव भी लड़ा
हरचंद कौर कांग्रेस से 2 बार विधायक रह चुकी हैं। इसी साल हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने उन्हें महल कलां रिजर्व सीट से टिकट दी थी। हालांकि वह आम आदमी पार्टी के कुलवंत सिंह पंडौरी से हार गई। महल कलां भी संगरूर लोकसभा सीट के अधीन ही आता है।

यह नेता संभालेंगे संगरूर में कमान
कांग्रेस ने संगरूर लोकसभा सीट पर विधानसभा क्षेत्र के हिसाब से नेताओं की ड्यूटियां लगाई हैं। इनमें CM भगवंत मान की विस सीट धूरी की कमान विधायक सुखजिंदर रंधावा को दी गई है। शिक्षा मंत्री मीत हेयर की सीट पर पूर्व मंत्री भारत भूषण आशु को तैनात किया गया है।

लेहरा में पूर्व सीएम राजिंदर कौर भट्‌ठल और परगट सिंह मोर्चा संभालेंगे। इसके अलावा वित्तमंत्री हरपाल चीमा की दिड़बा सीट पर विधानसभा में विपक्ष के उपनेता विधायक राजकुमार चब्बेवाल और सुखपाल खैहरा रहेंगे। सुनाम में मदनलाल जलालपुर और हैरी मान, मालेरकोटला में विपक्षी दल नेता प्रताप सिंह बाजवा, संगरूर में तृप्त राजिंदर बाजवा और विजय इंदर सिंगला और माहिल कलां कुशलदीप ढिल्लो देखेंगे।

2 मंत्रियों के भ्रष्टाचार केस के बाद बढ़ी मुश्किल
पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद आप सरकार से यूथ का कुछ हद तक मोहभंग हुआ है। कांग्रेस इसे भुनाने की तैयारी में थी। हालांकि अचानक कांग्रेस के पूर्व जंगलात मंत्री साधु सिंह धर्मसोत और संगत सिंह गिलजियां भ्रष्टाचार के केस में फंस गए। धर्मसोत को तो पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया।