हाईकोर्ट के वकील का चुनाव आयोग को लेटर:संगरूर लोकसभा सीट पर जल्द कराएं उपचुनाव; राष्ट्रपति चुनाव में हिस्सा ले सकेगा सांसद

चंडीगढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भगवंत मान ने MLA चुने जाने पर संगरूर सीट से इस्तीफा दे दिया था। - फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
भगवंत मान ने MLA चुने जाने पर संगरूर सीट से इस्तीफा दे दिया था। - फाइल फोटो

पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के वकील ने चुनाव आयोग से संगरूर लोकसभा सीट पर जल्द उपचुनाव करवाने की मांग की है। उन्होंने आयोग को लिखे लेटर में कहा कि जून में राष्ट्रपति का चुनाव होना है। उससे पहले यह उपचुनाव होना चाहिए। संगरूर सीट खाली हुए 2 महीने बीत चुके हैं।

पंजाब के CM भगंवत मान के इस्तीफे के बाद यह सीट खाली हुई है। मान धूरी सीट से विधायक चुने गए हैं। संगरूर के अलावा उत्तर प्रदेश की आजमगढ़ और रामपुर सीट पर भी जल्द चुनाव की मांग की गई है।

जून में होगा राष्ट्रपति चुनाव
देश के 14वें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है। ऐसे में देश के 15वें राष्ट्रपति 25 जुलाई से अपना कार्यभार संभालेंगे। ऐसे में इस तारीख से पहले आयोग को राष्ट्रपति चुनाव करवाने होंगे।

सभी सांसदों और विधायकों का हिस्सा लेना जरूरी
एडवोकेट हेमंत कुमार ने कहा कि भारतीय संविधान के आर्टिकल 54 के अनुसार राष्ट्रपति के चुनाव में सभी सांसद और राज्य एवं केंद्रशासित प्रदेशों के विधायक हिस्सा लेते हैं। ऐसे में चुनाव आयोग को चाहिए कि उस वक्त तक सभी सीटें भरी हुई हों। उन्होंने कहा कि अगर चुनाव में एक से ज्यादा कैंडिडेट हुए तो चुनाव होगाा। ऐसे में सभी सदस्यों का इसमें हिस्सा लेना जरूरी है।

6 महीने के भीतर चुनाव करवाने जरूरी
एडवोकेट हेमंत कुमार ने कहा कि रिप्रेजेंटेशन ऑफ पीपुल्स एक्ट (RPA) 1951 के सेक्शन 151A के तहत आयोग को सीट खाली होने के 6 महीने के भीतर चुनाव करवाने होते हैं। ऐसे में आयोग चाहे तो सितंबर के मध्य तक चुनाव करवा सकता है। हालांकि, 16वें राष्ट्रपति चुनाव के मद्देनजर यह चुनाव जल्दी करवाए जाने चाहिए।