• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Sidhu Moose Wala Murder; Shooters Investigation By Delhi Police, Know About The Interrogation

सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में खुलासा:गनमैन समेत ग्रेनेड से उड़ाने की भी थी साजिश; हथियारों की 'डेड ड्रॉप' डिलीवरी हुई

चंडीगढ़12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शार्प शूटर प्रियवर्त फौजी और पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला। - Dainik Bhaskar
शार्प शूटर प्रियवर्त फौजी और पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला।

पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला को गनमैन समेत कत्ल करने की साजिश रची गई थी। अगर मूसेवाला के साथ सिक्योरिटी होती तो पहले हथियारों से अटैक किया जाता। जरूरत पड़ती तो मूसेवाला की गाड़ी ग्रेनेड से उड़ा दी जाती। यह सनसनीखेज खुलासा दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के पकड़े प्रियवर्त फौजी ने पूछताछ में किया। वहीं मूसेवाला पर हमले के लिए हथियारों की 'डेड ड्रॉप' डिलीवरी हुई थी। जिसमें हथियार लेने और देने वाला एक-दूसरे को नहीं जानता। यह हथियार पाकिस्तान से ड्रोन के जरिए भेजे जाने की आशंका है।

सिद्धू मूसेवाला की इसी थार जीप में ताबड़तोड़ गोलियां मारकर हत्या कर दी गई थी। उस वक्त वह अपने 2 दोस्तों के साथ रिश्तेदार से मिलने जा रहे थे।
सिद्धू मूसेवाला की इसी थार जीप में ताबड़तोड़ गोलियां मारकर हत्या कर दी गई थी। उस वक्त वह अपने 2 दोस्तों के साथ रिश्तेदार से मिलने जा रहे थे।

फैन बनकर घर में गए लेकिन हथियार समेत संभव नहीं था
मूसेवाला की उनके घर के भीतर ही हत्या की साजिश रची गई थी। इसके लिए शूटर्स फैन बनकर भी उनके घर पहुंचे। गिफ्ट देकर भी साथी भेजे गए। हालांकि हर बार गेट पर सिक्योरिटी आदमी और गिफ्ट की चेकिंग करती थी। ऐसे में हथियार अंदर ले जाने संभव नहीं थे। इसके बाद घर के अंदर ग्रेनेड फेंकने की साजिश बनी। हालांकि मूसेवाला उसकी चपेट में आएगा या नहीं?, इससे शूटर्स आशंकित थे, इसलिए यह प्लान भी बदल दिया गया। पुलिस वर्दी में घर में घुसकर हत्या की भी साजिश थी लेकिन नेम प्लेट न होने की वजह से इसे बदल दिया गया। बिना नेम प्लेट गेट पर ही सिक्योरिटी के उन्हें रोकने और पहचानने का खतरा था।

प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा हरियाणा के बीसला पेट्रोल पंप पर हत्या से 4 दिन पहले दिखे थे। इसका खुलासा हत्या के बाद बोलेरो में छोड़ी पंप की रसीद से हुआ था। जिसके बाद यह पक्का हो गया कि यह दोनों भी मूसेवाला की हत्या में शामिल हैं।
प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा हरियाणा के बीसला पेट्रोल पंप पर हत्या से 4 दिन पहले दिखे थे। इसका खुलासा हत्या के बाद बोलेरो में छोड़ी पंप की रसीद से हुआ था। जिसके बाद यह पक्का हो गया कि यह दोनों भी मूसेवाला की हत्या में शामिल हैं।

फौजी बिना मास्क घूमता था, इसलिए सेरसा और मुंडी ने साथ छोड़ा
मूसेवाला की हत्या के बाद शार्प शूटर्स हरियाणा में रुके। इसके बाद गुजरात के मुंद्रा पोर्ट के नजदीक बस्ती में मकान किराए पर लिया। यहां पहले सभी मास्क पहनकर घूमते थे। हालांकि बाद में हरियाणा के सोनीपत का शार्प शूटर प्रियवर्त फौजी बिना मास्क घूमने लगा। तब तक उसके साथ शार्प शूटर अंकित सेरसा, दीपक मुंडी और कशिश भी थे। उन्होंने रोका भी लेकिन फौजी बेपरवाह हो गया। जिस वजह से अंकित सेरसा और दीपक मुंडी वहां से चले गए।

2-2 शूटर्स की टीम बनाई, मूसेवाला पर इतने बवाल का अंदाजा नहीं था
दिल्ली पुलिस की पूछताछ में पता चला कि सभी 6 शूटर्स एक साथ नहीं लिए गए। 2-2 शूटर्स की अलग-अलग टीम ली गई थी। जो एक-दूसरे को ज्यादा नहीं जानते थे। उन्हें कहा गया था कि कोई 'बड़ा काम' करना है। सिर्फ प्रियवर्त फौजी को पता था कि मूसेवाला की हत्या करनी है। हालांकि फौजी को भी अंदाजा नहीं था कि मूसेवाला की हत्या पर इतना बवाल हो जाएगा। जिससे पुलिस लगातार उनका पीछा करती रहेगी।

दिल्ली पुलिस ने बताए 6 शूटर, पंजाब पुलिस 4 कह रही
मूसेवाला की हत्या में दिल्ली पुलिस ने 6 शूटर्स के शामिल होने का दावा किया है। जिनमें प्रियवर्त फौजी और कशिश उर्फ कुलदीप पकड़े जा चुके हैं। अब जगरूप रूपा, मनु कुस्सा, अंकित सेरसा और दीपक मुंडी फरार हैं। वहीं पंजाब पुलिस ने 4 शार्प शूटर्स का दावा किया है। जिनमें जगरूप रूपा, मनु कुस्सा, प्रियवर्त फौजी और अंकित सेरसा का नाम है। हालांकि पंजाब पुलिस अभी तक किसी को भी नहीं पकड़ सकी।