• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Punjabi Singer Sidhu Moosewala Murder Latest Updates | Lawrence Bishnoi To Appear In Moga Court

कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस 2 दिन के रिमांड पर:कपड़ा व्यापारी से 50 लाख की फिरौती मांगी थी; फरीदकोट पुलिस करेगी पूछताछ

चंडीगढ़6 महीने पहले

कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस अब फरीदकोट पुलिस के शिकंजे में पहुंच गया है। बुधवार को उसे मोगा पुलिस ने कोर्ट में पेश किया। जहां से उसे फरीदकोट पुलिस ट्रांजिट रिमांड पर ले गई। फरीदकोट कोर्ट में पेश करने के बाद लॉरेंस का 2 दिन का पुलिस रिमांड मिल गया है। फरीदकोट में लॉरेंस पर कपड़ा व्यापारी से 50 लाख की फिरौती मांगने का आरोप है।

इससे पहले लॉरेंस को डिप्टी मेयर अशोक धमीजा के भाई पर कातिलाना हमले के केस में मोगा पुलिस ने रिमांड पर लिया था। 1 अगस्त को मोगा पुलिस को लॉरेंस का 10 दिन का रिमांड मिला था। फरीदकोट में लॉरेंस पर एक मर्डर केस में भी आरोपी बताया जा रह है। लॉरेंस पर पूरे पंजाब में 17 केस दर्ज हैं। जिनमें हर केस में उसकी गिरफ्तारी डालकर पूछताछ की जा रही है।

मूसेवाला हत्याकांड में पंजाब लाई थी पुलिस
गैंगस्टर लॉरेंस को पुलिस पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या के केस में पंजाब लाई थी। वह तिहाड़ जेल में बंद था। लॉरेंस ने ही मूसेवाला की हत्या की साजिश रची थी। जिसे उसके कनाडा बैठे साथी गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने अंजाम दिया। गोल्डी के कहने पर 6 शूटर ने मूसेवाला को गोलियां मारी। इनमें से 3 प्रियवर्त फौजी, अंकित सेरसा और कशिश पकड़े जा चुके हैं। मनप्रीत मन्नू और जगरूप रूपा का अटारी बॉर्डर के पास अमृतसर में पंजाब पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया। छठा शार्पशूटर दीपक मुंडी अभी फरार है।

पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला का 29 मई को मानसा के जवाहरके में गोलियां मारकर कत्ल कर दिया था। जिसकी जिम्मेदारी लॉरेंस गैंग ने ली।
पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला का 29 मई को मानसा के जवाहरके में गोलियां मारकर कत्ल कर दिया था। जिसकी जिम्मेदारी लॉरेंस गैंग ने ली।

लॉरेंस पर सबसे ज्यादा केस पंजाब में
लॉरेंस के खिलाफ सबसे ज्यादा 17 केस पंजाब में दर्ज हुए। जिनमें 6 केस फाजिल्का में हैं। लॉरेंस फाजिल्का के गांव दुतरावाली का रहने वाला है। मोहाली में लॉरेंस पर 7, फरीदकोट में 2, अमृतसर और मुक्तसर में 1-1 केस दर्ज है। लॉरेंस के खिलाफ 2010 में चंडीगढ़ और मोहाली में 3 क्रिमिनल केस दर्ज हुए थे। यह केस अवैध हथियार और अटेंप्ट टु मर्डर के थे। चंडीगढ़ में अप्रैल 2010 में दर्ज हुए 2 केस में लॉरेंस बरी हो गया। मोहाली में अक्टूबर 2010 में उसे सजा हो गई।