पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Tarn Taran: After 2 Years, The Secret Of Open Murder Taunts The Daughter Of SGPC Employee, The Minor, Took Revenge Along With The Son Of The Policeman When Beaten.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पौने 2 साल बाद खुला हत्या का राज:SGPC कर्मचारी की बेटी को तंग करता नाबालिग, पीटे जाने पर पुलिस वाले के बेटे के साथ मिलकर की थी हत्या

तरनतारन4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पंजाब पुलिस की गिरफ्त में पौने दो साल पहले बेटी से इकतरफा प्यार में SGPC कर्मचारी की जान लेने और उसका साथ देने का आरोपी। - Dainik Bhaskar
पंजाब पुलिस की गिरफ्त में पौने दो साल पहले बेटी से इकतरफा प्यार में SGPC कर्मचारी की जान लेने और उसका साथ देने का आरोपी।

तरनतारन में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (SGPC) के कर्मचारी गुरमेज सिंह की हत्या की वजह पता चल गई है। मंगलवार को सामने आया है कि एक युवक उनकी बेटी के लिए इकतरफा प्यार का फितूर पाले हुए था।इसका पता चलने पर गुरमेज सिंह ने उसे पीटा था। इसी बात का बदला लेने के लिए युवक ने 5 गोलियां मारकर गुरमेज की जान ले ली थी। अब पौने 2 साल बाद जब जांच-पड़ताल में इस राज से पर्दा उठने के बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

घटना 25 जून 2019 की रात की है। इस बारे में SSP ध्रुमन H निंबाले ने बताया कि गांव जमालपुर के गुरमेज सिंह (उस वक्त 47 साल उम्र थी) तरनतारन में दरबार साहिब में तैनात थे। उस रात को गुरमेज सिंह अपनी बुलेट बाइक (PB46Z9517) पर अपनी बहन सुखविंदर कौर निवासी गांव अलावलपुर के घर दूध लेने के लिए जा रहा था। गांव बचड़े के पास गुरमेज सिंह की गोलियां मारकर किसी ने हत्या कर दी।

इस मामले की जांच में DSP (I) कमलजीत सिंह औलख ने पाया कि गुरमेज सिंह की बेटी जिस स्कूल में पढ़ती थी, उसी में पढ़ने वाला गांव नूरदी का जश्नप्रीत सिंह उर्फ जश्न इकतरफा प्यार का फितूर पाले हुए था। पता चलने पर गुरमेज सिंह ने अपने भानजे मनजिंदर सिंह से मिलकर जश्न को दो बार पीटा। इसी बात का बदला लेने के लिए जश्न ने बचड़े निवासी अपने दोस्त अमृतपाल सिंह और अर्शदीप सिंह अर्श से मिलकर गुरमेज सिंह की हत्या की साजिश रची।

हत्या के वक्त मुख्य आरोपी जश्नप्रीत सिंह उर्फ जश्न की उम्र 17 साल थी। अब उसके दो साथी अमृतपाल और अर्शदीप भी 19 से 20 वर्ष के बीच हैं। SSP का कहना है कि इस मामले को ट्रेस करने में भले ही पौने दो साल का वक्त लग गया, लेकिन पुलिस किसी बेगुनाह को परेशान करना नहीं चाहती थी। जिस थाना सिटी में गुरमेज की हत्या का केस दर्ज हुआ था, आरोपी अर्शदीप का पिता कर्म सिंह उसी में ASI के पद पर तैनात था। अर्श ने अमृतपाल के कहने पर जश्नप्रीत को .32 बोर का रिवाल्वर मुहैया करवाया था। अब जबकि जश्नप्रीत और अर्शदीप दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है तो इस बात की भी जांच की जा रही है कि रिवॉल्वर का कनेक्शन पुलिस वाले के साथ तो नहीं।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने काम को नया रूप देने के लिए ज्यादा रचनात्मक तरीके अपनाएंगे। इस समय शारीरिक रूप से भी स्वयं को बिल्कुल तंदुरुस्त महसूस करेंगे। अपने प्रियजनों की मुश्किल समय में उनकी मदद करना आपको सुखकर...

और पढ़ें