पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • The Supreme Court Stayed The Arrest Of The Former Punjab DGP, The Court Asked Why The Early Arrest In The 30 year old Case

मुल्तानी मर्डर केस:पंजाब के पूर्व डीजीपी की गिरफ्तारी पर सुप्रीम कोर्ट की रोक, अदालत ने पूछा- 30 साल पुराने केस में गिरफ्तारी की जल्दी क्यों

चंडीगढ़6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी (फाइल फोटो)
  • पंजाब सरकार से मांगा 3 हफ्ते में जवाब, सैनी को प्रत्युत्तर के लिए एक सप्ताह का वक्त

बलवंत सिंह मुल्तानी मर्डर मामले में पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी को बड़ी राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने उनकी गिरफ्तारी पर अगले आदेशों तक के लिए रोक लगा दी है। जस्टिस अशोक भूषण जस्टिस आर सुभाष रेड्डी व जस्टिस एमआर शाह की तीन सदस्यीय बैंच ने पंजाब सरकार को नोटिस जारी करते हुए तीन हफ्ते में जवाब दाखिल करने को कहा है। इसके साथ ही सैनी को पुलिस की जांच में सहयोग करने के लिए कहा गया है।

सैनी को भी सरकार के जवाब दायर करने के बाद एक हफ्ते में प्रत्युत्तर दायर करने को कहा है। कोर्ट में सुनवाई के दौरान सैनी के वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए फैसले के 10 साल बाद सैनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया जाना दुर्भावना से प्रेरित व गलत है। ऐसे में जबकि अब वह एक रिटायर्ड पुलिस अधिकारी हैं। उन्होंने कहा, पंजाब सरकार सैनी के पीछे लगी हुई है क्योंकि उन्होंने दो चार्जशीट फाइल की थी जिसमें पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह आरोपी हैं। वहीं अदालत ने सरकारी वकील से पूछा कि 30 साल पुराने इस मामले में सैनी को गिरफ्तार करने की इतनी जल्दी क्यों है।

सरकार की तरफ से लूथरा बोले- सैनी के पास रिटायरमेंट के बाद भी कई फाइलों को कंट्रोल में रखने की पावर है

सरकार के वकील सिद्धार्थ लूथरा ने बताया कि मामला दर्ज हो जाने के बाद मुल्तानी मामले में बयान रिकाॅर्ड करना चाहती है। रिटायरमेंट के बाद भी सैनी अभी भी कई फाइलों को अपने कंट्रोल में करने की पावर रखते हैं। सरकार कीओर से पेश वकील सरतेज सिंह नरूला इसे सैनी को मिली राहत नहीं मान रहे हैं बल्कि उनका कहना है कि यह कोर्ट का प्रोसेस है। इसके बाद सरकार का पक्ष कोर्ट के सामने आने पर सैनी की बेल एप्लीकेशन पर बहस होगी और फिर कोर्ट फैसला देगा। मुल्तानी के भाई की तरफ से वकील केवी विश्वानाथन पेश हुए।

सैनी की तरफ से रोहतगी हुए पेश

सैनी के वकील रोहतगी ने कहा कि सैनी एक डेकोरेटेड पुलिस अधिकारी थे और डीजीपी के पद तक पहुंचे। पंजाब में आतंकवाद के दौरान सैनी ने पांच गोलियों के जख्म झेले थे। मुल्तानी जब जेल से भागा तब उसके पिता ने अदालत में एक याचिका लगाई थी। जिसे अदालत ने खारिज कर दिया था। उन्होंने कहा कि मुल्तानी को भागे हुए 29 साल का समय बीत जाने के बाद सैनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया जाना गलत है।

इसी साल अगस्त में हुआ था खुलासा

विश्वनाथन ने कहा, मर्डर के बारे में इसी साल 18 अगस्त को खुलासा हुआ था। बाद में कोर्ट के आदेश पर इसमें धारा 302 जोड़ दी गई। सैनी को 6 अन्यों के साथ 6 मई को आरोपी बनाया गया। मामले में दो लोगों ने गवाह होने का दावा किया। मुल्तानी सिटको में काम करता था और उसे सैनी पर आतंकी हमला करने के आरोप में उठाया गया था। सैनी 36 सालों की सर्विस के बाद 2018 में रिटायर हुए थे। वह इस मामले में अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर को भी रद्द करने की मांग कर रहे है। जिसमें उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ दर्ज मामला राजनीति से प्ररेरित है।

150 सवालों पर सैनी से होगी पूछताछ

अदालत में सैनी को जांच में सहयोग के लिए कहने के बाद पुलिस की एसआईटी ने उनसे पूछताछ की विशेष तैयारी कर ली है। टीम ने 150 सवाल तैयार किए हैं। ये सवाल उनसे आईजी स्तर के अधिकारी ही पूछेंगे। इसके बाद आगे की कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें