पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • The Woman Had Got The Certificate Made From A Center In Ludhiana, Graduation Degree Being Made In 40 Thousand In The City; Big Revelations Can Happen

जाली कागज से ICICI बैंक में नौकरी पाने का मामला:लुधियाना के एक सेंटर से बनवाए थे महिला ने सर्टीफिकेट, शहर में 40 हजार में बन रही ग्रेजुएशन की डिग्री; हो सकते हैं बड़े खुलासे

लुधियाना/दिलबाग दानिश3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लुधियाना में फर्जी सर्टीफिकेट बनाने का सेंटर चल रहा होने का खुलासा हुआ है। -सिंंबॉलिक इमेज - Dainik Bhaskar
लुधियाना में फर्जी सर्टीफिकेट बनाने का सेंटर चल रहा होने का खुलासा हुआ है। -सिंंबॉलिक इमेज

लुधियाना में फर्जी सर्टीफिकेट बनाने का सेंटर चल रहा है, जहां 40 से 50 हजार रुपए देकर फर्जी सर्टीफिकेट बनाए जा रहे हैं। देहात पुलिस की जांच अगर सही दिशा में जाती है तो शहर का नामी सेंटर संचालक पुलिस की गिरफ्त में होगा। इस जांच की चपेट में कई नामी कंपनियों में काम कर रहे लोग भी आ सकते हैं। जगराओं की पुलिस ने महिला को नामजद किया है। इसने आईसीआईसीआई बैंक में फर्जी सर्टीफिकेट के सहारे नौकरी हासिल की थी और जांच के बाद यह साबित हो गया है कि उसके ग्रेजुएशन के सर्टीफिकेट फर्जी हैं और अब पुलिस उसकी गिरफ्तारी के प्रयास कर रही है और उसी को जांच में शामिल करके संबंधित सेंटर संचालक तक पहुंचा जाएगा।

गांव रूमी की महिला पर दर्ज हुआ है मामला
दरअसल गांव रूमी के गुरजीत सिंह का गांव की ही महिला पवनदीप कौर के साथ किसी बात को लेकर झगड़ा चल रहा है। यह महिला पहले गुरजीत सिंह पर मामला दर्ज करवा चुकी है। गुरजीत सिंह को इस संबंधी पता था कि महिला ने नौकरी पाने के लिए फर्जी सर्टीफिकेट दिए हैं। उसने इसकी शिकायत दी तो एसपी साइबर क्राइम पीबीआई दविंदर सिंह ने जांच की तो महिला पुलिस के समक्ष पेश ही नहीं हुई। पुलिस आईसीआईसी बैंक से रिकार्ड मंगवाकर पंजाब यूनिवर्सिटी को महिला का नाम और रोल नंबर देकर जांच के लिए भेजा तो वहां से जवाब आया कि ऐसा कोई रिकार्ड उनके पास नहीं है। जिसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज किया है।

पुलिस के हाथ लगे हैं सुराग
एक अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया है कि भले महिला अभी शिकायत की जांच में शामिल नहीं हुई हो, मगर उनकी ओर से इसकी जांच में पता लगा लिया है कि यह सर्टीफिकेट कहां से बनवाया गया है। पंजाब यूनीवर्सिटी की तरफ से इसका निकार्ड नहीं होना बता दिया है, इस लिए मामला दर्ज कर लिया गया है। उसे अब गिरफ्तार किया जा सकता है और उसके ब्यान दर्ज कर पुलिस मामले की जांच को आगे बढ़ाएगी और उक्त गगन नामक सर्टीफिकेट बनाने वाले आरोपी से ऐसे लोगों को पता लगाया जाएगा जो उससे फर्जी सर्टिफिकेट बनवाकर नौकरी लगे हैं।

अभी फाइल मुझे नहीं मिली, सर्टीफिकेट बनाने वाले तक भी पहुंचेंगे
मामले की अगली जांच के लिए चौकी बस स्टेंड प्रभारी सब इंसपेक्टर कमलदीप कौर को लगाया गया है। उनका कहना है कि अभी मुझे फाइल नहीं मिली है, जरूर हर उस शख्श को इस मामले में शामिल किया जाएगा जिसके सर्टीफिकेट बनाया या फिर इसका इस्तेमाल किया गया है।

खबरें और भी हैं...