• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Tokyo Olympics: Olympian Pargat Singh Congratulation To Indian Womens Hockey Team, Hats Off To Punjab Girl Gurjeet Kaur

गुरजीत ने तोड़ा ऑस्ट्रेलिया का गुरूर:गुरजीत ने ड्रैग फ्लिक से गोल कर इंडिया को सेमी में पहुंचाया, पिता बोले- गर्व से सीना चौड़ा कर दिया

अमृतसर2 महीने पहले
गोल करने के बाद जश्न मनाती गुरजीत कौर।

भारतीय महिला हॉकी टीम ने इतिहास रच दिया है। टीम पहली बार ओलिंपिक के सेमीफाइनल में पहुंच गई है और यह संभव हुआ पंजाब की होनहार खिलाड़ी गुरजीत कौर की ड्रैग फ्लिक से। पेनल्टी कॉर्नर पर उनके इकलौते गोल की बदौलत भारत ने ऑस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम को 1-0 से हराया। गुरजीत का गोल इस मायने में खास है कि ऑस्ट्रेलिया के ऊपर पूल स्टेज में 5 मैचों में सिर्फ 1 गोल हुआ था। ड्रैग फ्लिक को रोकने में ऑस्ट्रेलिया की डिफेंडर्स माहिर मानी जाती हैं। लेकिन, गुरजीत की झन्नाटेदार फ्लिक को वे काबू में नहीं कर सकीं।

मैच खत्म होते ही अजनाला की रहने वालीं गुरजीत कौर के परिवार में जश्न का माहौल बन गया। पूरा परिवार भिंडीसैदां गुरुद्वारा साहिब में माथा टेकने के लिए रवाना हो गया। अजनाला के गांव नियादियां कलां के किसान गुरजीत कौर के पिता सतनाम सिंह ने बताया कि गुरजीत खालसा कॉलेज फॉर वुमन में पढ़ी हैं। उनकी बहन प्रदीप कौर पंजाब स्पोर्ट्स डिपार्टमेंट में हॉकी कोच हैं। खालसा कॉलेज में ही गुरजीत ने हॉकी की बारीकियों को सीखा। उन्होंने उम्मीद जताई कि भारतीय महिला टीम ओलिंपिक मेडल जरूर जीतेगी। पिता ने कहा गुरजीत के लिए कहा-भगवान उसे लंबी उम्र दें।

गुरजीत कौर की जीत के लिए अरदास करता परिवार।
गुरजीत कौर की जीत के लिए अरदास करता परिवार।

पेनल्टी कॉर्नर के वक्त प्रार्थना कर रहा था पूरा परिवार
चाचा गोल्डी ने बताय कि जब भारत को पेनल्टी कॉर्नर मिला तो पूरा परिवार गुरु महाराज का ध्यान लगा कर बैठ गया था। यकीन था कि गुरजीत अपनी ट्रिक्स से गोल जरूर करेगी। हुआ भी ऐसा ही। गोल के बाद पूरा परिवार माथा टेकने लिए निकल गया। पहले से ही अहसास हो रहा था कि भारत यह मैच जरूर जीतेगा।

ड्रैग फ्लिक से बदला गुरजीत का करियर

गुरजीत के स्पोर्ट्स करियर में सबसे बड़ा टर्निंग प्वाइंट ड्रैग फ्लिक था। इस तकनीक को सीखकर ही उसे टीम में अलग पहचान मिली। अपनी टीम के लिए एक अच्छी ड्रैग फ्लिकर बनने के लिए गुरजीत को कोच से हमेशा मदद मिलती रही। जूनियर नेशनल कैंप से जुड़ने से पहले वह ड्रैग फ्लिकिंग की कला से खास अवगत नहीं थी। 2012 जूनियर कैंप से जुड़ने के बाद उसने ड्रैग फ्लिकिंग का हुनर सीखा। इस कैंप से जुड़ने से पहले ड्रैग फ्लिक का अभ्यास किया था, लेकिन उसने इस तकनीक के बेसिक्स को अच्छी तरह से नहीं सीखा था।

खबरें और भी हैं...