यूपी सरकार V/S पंजाब सरकार:न चालान पेश, न कोर्ट में पेशी, मुख्तार अंसारी ने 2 साल में जेल से 54 बार ली तारीख पर तारीख

चंडीगढ़10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

यूपी के गैंगस्टर और बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को लेकर यूपी सरकार और पंजाब सरकार में तकरार बढ़ गई है। यूपी सरकार के कई बार मांगने के बावजूद हर बार पंजाब सरकार ने मुख्तार को सौंपने से इनकार किया है। पंजाब का कहना है मुख्तार को कई बीमारियां हैं, इसलिए नहीं सौंप सकते। यूपी का तर्क है कि इसके न आने से कई केस रुके हैं। 24 जनवरी 2019 से अंसारी रोपड़ जेल में बंद है। इतने दिन में वह अस्पतालों में इलाज के लिए ताे बाहर निकला, लेकिन कोर्ट एक बार भी नहीं गया। कभी वीसी के जरिये तो कभी सेहत का हवाला देकर पेश नहीं हुआ।

जेल से ही 54 बार तारीखें लेता रहा। पेशी होती भी कैसे, आज तक अंसारी पर लगे आरोपों पर चालान ही पेश नहीं हुआ, चार्ज फ्रेम तो दूर की बात है। मोहाली के मटौर थाने के जांच अिधकारी अशोक कुमार ने बताया कि जांच जारी है, इसलिए चार्ज फ्रेम नहीं हो सके। जांच के बाद चालान पेश होगा।

ऐसे समझें मामले को अब तक क्या-क्या हुआ... सिर्फ अस्पताल गया, कोर्ट एक बार भी नहीं- गिरफ्तारी के बाद एक ही दिन में मोहाली पुलिस ने पूछताछ खत्म भी कर ली और अगले ही दिन उसे कोर्ट में पेश किया। कोर्ट में पुलिस ने कहा अंसारी से पूछताछ पूरी हो गई है। अब न्यायिक हिरासत में भेज दिया जाए। कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में अंसारी को रोपड़ जेल भेज दिया। यानी 24 जनवरी 2019 के बाद से

अंसारी रोपड़ जेल में है। इसके बाद वह सीधा अस्पतालों में इलाज के लिए तो बाहर निकला लेकिन कोर्ट पेशी फिजिलकल नहीं हुई। हर बार कोर्ट में पुलिस अंसारी की सुरक्षा और सेहत की दुहाई देती रही और अंसारी आज तक जेल में बैठकर तारीख पर तारीख लेता रहा। हर 14 दिन बाद उसे फिर से 14 दिन बाद की तारीख मिलती रही। यूं ही आज तक फिरौती का मामला भी फाइलों से नहीं निकला।

8 बार लौटी यूपी पुलिस... कभी सेहत तो कभी सुरक्षा का कारण बताया-

2 सालों में यूपी पुलिस की टीम 8 बार अंसारी को लेने पंजाब आ चुकी है। लेकिन हर बार सेहत, सुरक्षा और कोरोना का कारण बताकर पंजाब पुलिस ने उसे सौंपने से इनकार कर दिया।

पुलिस के अनुसार अंसारी को डिप्रेशन, शुगर, व रीढ़ की बीमारियां हैं। डॉक्टरों ने उसे किसी अन्य जगह शिफ्ट करने से मना किया है। दुबे हत्याकांड के बाद अंसारी ने अपनी जान का खतरा बताया है, उसने पंजाब सरकार को पत्र लिखकर आशंका जताई है कि जैसे विकास दुबे की जीप पलट गई और उसकी जान चली गई, ऐसे मेरी भी जा सकती है। कोरोना काल के दौरान कोविड को भी एक कारण बताया गया है।

2 साल से जेल में-

08 जनवरी 2019 को मोहाली के एक बड़े बिल्डर की शिकायत पर मोहाली पुलिस ने 10 करोड़ की फिरौती मांगने का केस अंसारी के खिलाफ दर्ज किया। 12 जनवरी को प्रोडक्शन वारंट हासिल करने के लिए पुलिस कोर्ट पहुंची। 21 जनवरी 2019 को मोहाली पुलिस मुख्तार अंसारी को प्रोडक्शन वारंट पर यूपी से मोहाली ले आई। 22 जनवरी 2019 को अंसारी को मोहाली कोर्ट में पेश किया। एक दिन का रिमांड मिला। 24 जनवरी को न्यायिक हिरासत में अंसारी को रोपड़ जेल भेज दिया गया।08 जनवरी 2019 को मोहाली के एक बड़े बिल्डर की शिकायत पर मोहाली पुलिस ने 10 करोड़ की फिरौती मांगने का केस अंसारी के खिलाफ दर्ज किया। 12 जनवरी को प्रोडक्शन वारंट हासिल करने के लिए पुलिस कोर्ट पहुंची। 21 जनवरी 2019 को मोहाली पुलिस मुख्तार अंसारी को प्रोडक्शन वारंट पर यूपी से मोहाली ले आई। 22 जनवरी 2019 को अंसारी को मोहाली कोर्ट में पेश किया। एक दिन का रिमांड मिला। 24 जनवरी को न्यायिक हिरासत में अंसारी को रोपड़ जेल भेज दिया गया।

देखें... अब तक अंसारी ने कब-कब ली तारीख

दोनों सरकारों के तर्क...

यूपी सरकार का -यूपी सरकार ने कहा है कि अंसारी पर 15 केस अभी दर्ज हैं और बाहुबली नेता गैंगस्टर की श्रेणी में आते हैं। वह पंजाब की जेल में मौज कर रहा है। उसके न आने से यूपी की अदालतों में उसके खिलाफ विभिन्न गंभीर मामलों में ट्रायल रुका हुआ है।

पंजाब सरकार का-अंसारी के वकील ने तर्क दिया है कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये भी विभिन्न मामलों में ट्रायल कराया जा सकता है, उसके लिए यूपी ले जाने की क्या जरूरत है। इतने पुराने मामलों में यूपी सरकार को इतनी जल्दी क्यों है। मुख्तार को कई बीमारियां हैं। उसे जान का खतरा भी है।

खबरें और भी हैं...