• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • VK Bhavra Vs Gaurav Yadav; Bhagwant Mann Govt Likley To Appoint New DGP After Sidhu Moosewala Murder

पंजाब को मिलेंगे नए DGP:वीके भावरा की केंद्र जाने की तैयारी, मूसेवाला मुद्दे से नाराज सरकार; गौरव यादव का नाम चर्चा में

चंडीगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब को जल्द नए पुलिस महानिदेशक(DGP) मिल सकते हैं। मौजूदा डीजीपी वीके भावरा केंद्रीय डेपुटेशन पर जाने की तैयारी में हैं। इस संबंध में उन्होंने पंजाब सरकार और केंद्रीय गृह विभाग को पत्र भी भेजा है। हालांकि औपचारिक तौर पर उन्होंने इस बारे में कुछ नहीं कहा है। पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला मामले में सरकार डीजीपी भावरा से नाराज है। इस वजह से आम आदमी पार्टी (AAP) को संगरूर में हार झेलनी पड़ी।

वीके भावरा केंद्र में गए तो फिर गौरव यादव नए डीजीपी बन सकते हैं। यादव को CM भगवंत मान का स्पेशल प्रिंसिपल सेक्रेटरी बनाया जा चुका है। इस दौड़ में स्पेशल टास्क फोर्स (STF) चीफ हरप्रीत सिद्धू का नाम भी शामिल है। यह दोनों अफसर हाल ही में DGP पद पर प्रमोट हुए हैं।

डीजीपी गौरव यादव। जिन्हें हाल ही में CM भगवंत मान का स्पेशल प्रिंसिपल सेक्रेटरी बनाया गया था।
डीजीपी गौरव यादव। जिन्हें हाल ही में CM भगवंत मान का स्पेशल प्रिंसिपल सेक्रेटरी बनाया गया था।

संगरूर हार के बाद DGP बदलने की थी चर्चा
डीजीपी वीके भावरा को पिछली कांग्रेस सरकार ने नियुक्त किया था। हालांकि चुनाव के बाद AAP सत्ता में आ गई। इसके बावजूद वह पद पर बने रहे। इसकी बड़ी वजह उनका किसी पॉलीटिकल पार्टी या पावरफुल लॉबी से जुड़ा न होना था। हालांकि सरकार बनने के बाद ही राज्य में विपक्षियों ने लॉ एंड ऑर्डर पर AAP की घेराबंदी कर रखी है। सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में भी पुलिस की कमजोरी जाहिर हुई। जिसमें सिक्योरिटी थ्रैट होने के बावजूद मूसेवाला की सुरक्षा घटा दी गई। इसी वजह से संगरूर चुनाव में सत्ता में होने के बावजूद AAP हार गई।

डीजीपी हरप्रीत सिद्धू। STF मुखी होने के साथ हाल ही में मान सरकार ने उन्हें पंजाब की जेलों का भी चार्ज सौंपा है।
डीजीपी हरप्रीत सिद्धू। STF मुखी होने के साथ हाल ही में मान सरकार ने उन्हें पंजाब की जेलों का भी चार्ज सौंपा है।

तय नियम से DGP बने भावरा
कैप्टन अमरिंदर सिंह के CM की कुर्सी से हटने के बाद दिनकर गुप्ता को हटा दिया गया। उनकी जगह पहले तत्कालीन CM चरणजीत चन्नी ने इकबालप्रीत सहोता को डीजीपी बनाया। इसके खिलाफ उस वक्त पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू ने मोर्चा खोल दिया। फिर अंतिम वक्त में सिद्धार्थ चट्‌टोपाध्याय को डीजीपी बना दिया गया। इसके बाद चन्नी सरकार ने UPSC को पैनल भेजा गया था। जहां से नाम आने के बाद पंजाब चुनाव के लिए आचार संहिता लागू होने से कुछ वक्त पहले वीके भावरा को डीजीपी बनाया गया।