पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

थर्मल स्कैनिंग:40% बच्चे पहुंचे; एंट्री से पहले थर्मल स्कैनिंग की, मास्क को बताया जरूरी

पटियाला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नौ महीने बाद...अधूरी तैयारी के साथ खुले जिले के स्कूल

पंजाब सरकार के आदेश पर अधूरी तैयारी के साथ वीरवार को जिले के स्कूलों में 5वीं से लेकर 12वीं की क्लासें शुरू हो गई। पहले दिन प्राइवेट और एफिलिएटेड स्कूलों में स्टूडेंट्स की संख्या 30 से 40 फ़ीसदी तक रही। स्कूल में एंट्री करने से पहले स्टूडेंट्स का शरीर का तापमान चेक किया गया, वही सभी स्टूडेंट्स और स्कूल के अधिकारी मास्क पहने नजर आए। इस दौरान जमीनी स्तर पर काम किए बिना अधूरी तैयारी के साथ स्कूल खोलने के आदेशों में कई खामियां दिखी। क्लास में कितने स्टूडेंट्स बैठाए जाने हैं, इसको लेकर कोई गाइडलाइन जारी न होने से स्कूल प्रबंधक असमंजस में रहे। ]

ट्रांसपोर्टेशन सुविधा न होने से दूरदराज से आने वाले स्टूडेंट्स या तो नहीं पहुंच पाए जो आए वह व्हीकल से या पेरेंट्स के साथ पहुंचे। लंबे अरसे बाद सुबह स्कूल खुलने के बाद घंटियों की आवाज सुनने को मिली। सरकार के आदेश के बाद ज्यादातर स्कूलों ने व्हाट्सएप ग्रुप में जानकारी डाल दी थी। पहले दिन स्कूलों में स्टूडेंट्स की संख्या आधे से भी कम रही। पटियाला के कई बड़े स्कूलों ने सोमवार से स्कूल खोलने का फैसला किया है। श्री अरबिंदो इंटरनेशनल स्कूल प्रबंधन ने बताया कि कोरोना की वजह से पूरी तैयारी करने के लिए उन्होंने सोमवार से स्कूल खोलने का फैसला किया है।

सनौर के दीप इंग्लिश मॉडल स्कूल की डायरेक्टर बलदीश कौर शर्मा और चेयरमैन विवेक शर्मा ने बताया कि स्कूल खुलने से 2 घंटे पहले सारे स्टाफ ने पहुंचकर गेट पर थर्मल स्कैनिंग, सैनिटाइज करने और बच्चों के मास्क पहनने को सुनिश्चित करने की तैयारी कर ली थी। डायरेक्टर बलदीश ने बताया कि हर क्लास में 10 से 15 स्टूडेंट्स ही बताए गए। मॉर्निंग असेंबली, हाफ टाइम के समय स्टाफ ने बच्चों पर पूरी निगरानी रखी।

ट्रांसपोर्टेशन सुविधा नहीं मिलेगी, बसों की बीमा मियाद खत्म

प्राइवेट एफिलिएटिड स्कूलों की संस्था फेडरेशन ऑफ प्राइवेट स्कूल एंड एसोसिएशन ऑफ पंजाब के जिला प्रधान भूपिंदर सिंह के मुताबिक स्कूलों के सामने सबसे बड़ी दिक्कत ट्रांसपोर्टेशन की है। बच्चों को घरों से लेकर आने वाली बसें ऑटो छोटी गाड़ियां 7 से 8 महीनों से खड़ी हैं। उनकी बीमा मियाद खत्म हो चुकी है। इतने लंबे समय तक खड़े रहने के कारण उनकी बैटरियां खत्म हो चुकी हैं। अब उन्हें दोबारा चालू स्थिति में करने के लिए बड़े बजट की जरूरत है। स्कूलों के पास फंड न होने के कारण फिलहाल यह संभव नहीं है। उन्होंने पंजाब सरकार को पत्र लिखकर इस बारे में स्थिति क्लियर करने को कहा है।

सरकार ने तैयारियों के लिए कम समय दिया: यूनियन

एफिलिएटिड स्कूल यूनियन पंजाब के जिला महासचिव डॉ राकेश गौतम ने माना कि फिलहाल स्कूल खोलने की प्रक्रिया में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। सरकार ने अचानक आदेश जारी कर स्कूलों को अपनी तैयारियां करने का बहुत कम समय दिया है। इसके बावजूद स्कूल प्रबंधन कोरोना से बचाव के लिए इतने शॉर्ट टाइम में अपनी तैयारियां करने में लगे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें