विरोध / आढ़त में कटौती की केंद्र सरकार की नीति पर आढ़तियों ने सरहिन्द मंडी में जताया रोष

Brokers expressed anger at the Sirhind Mandi on the central government's policy of cutting down
X
Brokers expressed anger at the Sirhind Mandi on the central government's policy of cutting down

  • 2.5 फीसदी में 1 फीसदी अाढ़त कम हाेने से आढ़तियों को हाेगा अार्थिक नुकसान

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 07:43 AM IST

फतेहगढ़ साहिब. केंद्र सरकार की ओर से आढ़तियों को फसलों पर मिलने वाली आढ़त में कटौती को लेकर तैयार की जा रही नीति के विरोध में सरहिन्द की मुख्य अनाज मंडी में आढ़तियों ने रोष प्रदर्शन कर केंद्र सरकार नारेबाजी की। पंजाब आढ़ती एसोसियेशन उपाध्यक्ष व जिलाध्यक्ष साधू राम भट्टमाजरा ने कहा कि केंद्र सरकार आढ़तियों को लगने वाली 2.5 फीसदी आढ़त में एक फीसदी कटौती कर उसे 1.5 प्रतिशत करने की नीति तैयार कर रही है। जो आढ़तियों के हित में नहीं है। 
आढ़त में एक फीसदी कटौती से उन्हें आर्थिक नुकसान हाेगा। मौजूदा सीजन में गेहूं की फसल कम होने से किसानों के साथ उन्हें नुकसान उठाना पड़ा है। केंद्र ने न किसानों की कोई सुध ली और न आढ़तियों की। साधू राम ने कहा कि मौजूदा सीजन में अलग-अलग एजेंसियों की ओर से खरीद किए गेहूं में से लाखों की संख्या में कट्टे मंडियों में जमा है जिनकी लिफ्टिंग नहीं हो रही।

लिफ्टिंग न होने से गेहूं सूख रही है, वजन में होने वाली शार्टेज भी एजेंसियां आढ़तियों पर डाल देती है। अब कोई भी आढ़ती किसी भी किस्म की कटौती अदा नहीं करेगा। अभी तक सरकारी एजेंसियों की ओर से न तो गेहूं की पूरी पेमेंट की गई और न ही आढ़तियों को आढ़त व मजदूरी की पेमेंट, ऐसे में लेबर को भी पेमेंट आढ़तियों ने पल्ले से की है। केंद्र से अपील की है कि आढ़त में कटौती करने की नीति छाेड़कर उनकी पेमेंट के साथ जमा गेेहूं की लिफ्टिंग करवाई जाए। यहां अवतार सिंह मौजूद रहे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना