पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना से जंग:सभी एसएमओ को निर्देश- क्वारेंटाइन न मानें तो थाने में कराएं एफआईआर

पटियालाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • धीरू बस्ती के संक्रमित युवक ने 20 घंटे सेहत विभाग की टीम काे छकाया था
  • होम क्वारेंटाइन में बाहर गए तो 1 साल के लिए जाना होगा जेल
Advertisement
Advertisement

त्रिपड़ी सीएचसी की महिला सफाई मुलाजिम के संक्रमित बेटे ने बीते दिनाें 20 घंटे तक सेहत विभाग की टीम काे छकाया था। टीम से बचने के लिए इधर-उधर छुपने के बाद पुलिस व टीम ने किसी तरह लाेगाें ने उसे गिफ्तार किया था।

अब विभाग ने ऐसे लोगों पर शिकंजा कसने की तैयारी की है। सिविल सर्जन डॉ. हरीश मल्होत्रा ने जिले के सभी एसएमओ को लिखित में निर्देश जारी किए है कि अब होम क्वारेंटाइन की उल्लंघना करने पर ऐसा करने वाले व्यक्ति की सूचना तुरंत संबंधित पुलिस थाने को देकर उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई जाए।

हालांकि सेहत विभाग अब तक होम क्वारेंटाइन का उल्लंघन करने वालों पर 20 लाख रुपए जुर्माना कर चुका है, लेकिन लोग इसके बावजूद नहीं सुधर रहे हैं।

ताजा उदाहरण धीरू नगर में मिली कोरोना पॉजिटिव महिला के बेटे का है। यह कोई पहला वाकया नहीं हैं।  सिविल सर्जन डॉ. हरीश मल्होत्रा की मानें तो अब तक उनके ध्यान में ऐसे कई केस आए हैं जिन्होंने होम

क्वारेंटाइन का उल्लंघन किया। 2 व्यक्तियों के खिलाफ सेहत विभाग ने पुलिस में मामला भी दर्ज करवा दिया है। 

धीरू बस्ती की महिला की चेन, 20 साल की युवती संक्रमित

इधर, धीरू नगर से एक और 20 साल लड़की काेराेना संक्रमित निकली। इसके साथ ही मरीजाें की संख्या 337 हाे गई है। इस काेराेना संक्रमित काे राजिंदरा अस्पताल के आइसाेलेशन वार्ड में शिफ्ट करवा दिया गया है।

राहत की बात यह है कि काेराेना काे हराकर तीन मरीज ठीक हाे गए हैं। इन तीनाें काे छुट्टी देकर घर भेज दिया गया है।

सिविल सर्जन डाॅ. हरीश मल्हाेत्रा ने बताया कि आज 581 सैंपलाें की रिपाेर्ट आई हैं, इनमें 580 निगेटिव केस रहे। विभाग की टीमाें ने वीरवार काे अलग-अलग स्थानाें से 558 सैंपल लिए, रिपाेर्ट आज अाएगी।

होम क्वारेंटाइन में बाहर गए तो 1 साल के लिए जाना होगा जेल

पहली बार नियम का उल्लंघन करने वालों पर 500 रुपये का जुर्माना और बार-बार नियमों का उल्लंघन करने वालों 1000 रुपये का जुर्माने का प्रावधान है।

अगर कोई व्यक्ति मौके पर जुर्माने का पैसा नहीं देता तो उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 188 के तहत कार्रवाई करते हुए उसको जेल भी भेजा जा सकता है।

कानूनी यह है कि जिन व्यक्तियों को होम क्वारेंटाइन में रखा गया है यदि वह क्वारेंटाइन अवधि पूर्ण किए बिना नियमों का उल्लंघन करते हैं तो उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 188 के तहत 6 महीने की सजा अथवा 1 हजार रुपए का जुर्माना अथवा दोनों से दंडनीय है।

इसके अलावा डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 की धारा 51 के तहत 1 साल की जेल और जुर्माना या दोनों हो सकते हैं। व्यक्ति का परिवार सहयोग करता है तो परिवार के सदस्यों के खिलाफ इसी प्रकार कार्रवाई की जाएगी।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज किसी की मध्यस्थता द्वारा हल मिलने की पूरी संभावना है। अपने व्यवहार को सकारात्मक व सहयोगात्मक बनाकर रखें। परिवार व समाज में आपकी मान प्रतिष...

और पढ़ें

Advertisement