ड्रीम प्रोजेक्ट:राजपुरा बठिंडा डबल ट्रैक काम 4 से 6 महीने देरी से खत्म होगा प्रोजेक्ट

पटियाला12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डीएमडब्ल्यू रोड पर डबल ट्रैक को लेकर रखे स्लीपर  । - Dainik Bhaskar
डीएमडब्ल्यू रोड पर डबल ट्रैक को लेकर रखे स्लीपर ।

पिछले कई साल से मालवा बेल्ट के लोगों का ड्रीम प्रोजेक्ट बठिंडा राजपुरा डबल ट्रैक (172.64 किमी ) का काम जोरों से चल रहा था, अब यह काम अपने तय समय पर खत्म होते नहीं दिख रहा है। अभी तक रेलवे ने पटियाला में काम शुरू नहीं किया है, पटियाला में सिर्फ स्लीपर रखे हैं और जगह-जगह बजरी बिछाई है, स्टेशन की बिल्डिंग तैयार की गई है। आरवीएनएल अभी सेकेंड फेज का काम कर रहा है।

नाभा से कौलसेड़ी तक काम चल रहा, जिसकी अगले महीने सीआरएस जांच होगी। इसके बार आरवीएनएल धुरी में काम करेगा। इसके बाद वह तीसरे फेज का काम पटियाला में शुरू होगा, जो अगले साल जनवरी में दाैणकलां यार्ड, बाया पटियाला से लेकर नाभा तक शुरू होने की उम्मीद है, जिसकी दूरी 36 किलोमीटर है। कुछ जगह में बीच-बीच में काम चल रहा है। इससे साफ है कि यह काम 4 से 6 महीने और देरी से खत्म होगा। आरवीएनएल के मुताबिक अब तक पहले फेज का काम करीबन 54 किलोमीटर खत्म हुआ है और कमीशन हुआ है। जबकि 20 किलोमीटर का चल रहा जो कौलसेडी नाभा का है। जिसका अगले महीने खत्म होगा, इसके बाद रेलवे ने कहा है कि पहले धुरी में काम करेगा, फिर पटियाला में।

दाैणकलां आउटर से लेकर बाया पटियाला से नाभा तीसरे फेज में काम शुरू होगा। आरवीएनएल का तर्क है कि काम करने वाली कंपनी फ्री हो जाएगी, तो पटियाला में तेजी से काम शुरू होगा, करीबन जनवरी 2023 से शुरू होगा और जून खत्म होगा। आरवीएनएल के मुताबिक पटियाला में 17 नंबर फाटक में एलएचएस निर्माण का काम आने वाले 3 से 4 दिनों में शुरू होगा। आरवीएनएल के मुताबिक मौजूदा समय में नाभा से दाैणकला, लहरामोहब्बत के आसपास, कौलसेड़ी नाभा समेत सारे सेक्शन में काम चल रहा है। यह प्रोजेक्ट मालवा बेल्ट के लिए महत्वपूर्ण है।

डबल ट्रैक बन जाने से कारोबारियों समेत डेली यात्रियों को फायदा होगा। इस ट्रैक से 10 जिले जुड़ेंगे। इनमें पटियाला, बरनाला, बठिंडा, मुक्तसर, फाजिल्का सहित राजस्थान के तीन जिले भी शामिल हैं। वहीं यह व्यापार की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण होगा। अंबाला डिवीजन के डीआरएम जीएम सिंह ने बताया कि अगले साल पटियाला में का शुरू होगा। यह काम आरवीएनएल कर रही है। रेलवे बोर्ड से जो टारगेट मिला है उस हिसाब से काम हो रहा है। काम चल रहा है।

खबरें और भी हैं...