पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Patiala
  • Trees Started Drying Up By Laying Tiles Around, Forest Department Had Prepared To Cut, Matter Reached Chief Secretary

पेड़ बचाने की अपील:आसपास टाइलें लगाने से सूखने लगे पेड़, वन विभाग की थी काटने की तैयारी, चीफ सेक्रेटरी तक पहुंचा मामला

पटियाला6 दिन पहलेलेखक: राणा रणधीर
  • कॉपी लिंक
पत्र में ये भी बताया- दुकानों के आगे पार्किंग में बाधा बन रहे थे पेड़ - Dainik Bhaskar
पत्र में ये भी बताया- दुकानों के आगे पार्किंग में बाधा बन रहे थे पेड़
  • कनाडा में रहने वाले पटियाला के व्यक्ति ने चलाई मुहिम, हाईकोर्ट के वकील एचसी अरोड़ा की चीफ सेक्रेटरी से पेड़ बचाने की अपील
  • डीएफओ बोले- सोशल मीडिया पर विभाग की भूमिका को लेकर गलतफहमी हो गई, जानबूझ कर पेड़ सुखाने की साजिश करने वालों पर होगी कार्रवाई

भूपिंदरा रोड पर इन दिनों 50 पेड़ों को बचाने की मुहिम सोशल मीडिया पर चल रही है। कनाडा में रेडियो जर्नलिस्ट बलतेज पन्नू ने 2 दिन पहले भूपिंदरा रोड पर खड़े इन पेड़ों की एक तस्वीर अपलोड करके पोस्ट डाली।

बताया कि कुछ दुकानदारों की तरफ से इन पेड़ों का कत्ल करने की साजिश हो रही है। 2 पेड़ पूरी तरह सूख चुके हैं, इसलिए इन्हें डेड (मृतक) करार देकर इन 2 पेड़ों के अलावा जंगलात विभाग की तरफ से इनकी आड़ में दूसरे पेड़ भी काटने की तैयारी चल रही है, जाे दुकानों के आगे बाधा बन रहे हैं।

विराेध की अपील की थी

बलतेज पन्नू ने शहरवासियों से अपील करते हुए कहा कि सभी लोग इन पेड़ों पर नजर बनाए रखें और अगर देर-सवेर इनकी कटाई होती दिखे तो इक्ट्ठे होकर विरोध करें। उनकी पोस्ट को पढ़कर पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट के वकील एडवोकेट एचसी अरोड़ा ने पंजाब के चीफ सेक्रेटरी को पेड़ों को बचाने के लिए पत्र लिखा।

एडवोकेट अरोड़ा ने अपने पत्र में बताया कि यहां सिर्फ 2 पेड़ सूखे हैं, जंगलात विभाग सभी 50 पेड़ों को काटने की तैयारी कर रहा है। आनन फानन में जंगलात विभाग ने तुरंत मजदूर लगाकर भूपिंदरा रोड पर खड़े इन पेड़ों के आस पास लगी इंटरलॉकिंग टायलों को हटाने का काम शुरू किया।

जांच के लिए नगर निगम, पीडब्ल्यूडी अफसरों की मदद लेगा विभाग

डीएफओ विद्या सागरी ने बताया कि सोशल मीडिया में जंगलात विभाग की भूमिका को लेकर गलतफहमी पैदा हो गई है। उन्हें पर्यावरणप्रेमी पुनीत से शिकायत मिली थी। भूपिंदरा रोड पर ये पेड़ दुकानों के आगे खड़े हैं।

इसलिए दुकानदारी खराब होते देख कुछ दुकानदार इन पेड़ों को मारने की साजिश रच रहे हैं। यही कारण है कि 2 पेड़ सूख गए हैं। डीएफओ के मुताबिक उन्हें तुरंत जांच के आदेश जारी किए। पहले उन्होंने 50 पेड़ बचाने के लिए काम शुरू किया।

पेड़ों की जड़ों के आस पास लगी इंटरलॉकिंग टायलों को हटाना शुरू किया। जांच में शिकायतकर्ता और जिन दुकानदारों पर आरोप लगा है उन्हें तलब किया है। अगर पेड़ों को जानबूझ कर सुखाने में किसी भी व्यक्ति की कोई शमूलियत मिलती है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

पीडब्ल्यूडी और नगर निगम ने लगाई थी टायलें

डीएफओ के मुताबिक इन पेड़ों के सूखने की जांच में जंगलात विभाग नगर निगम और पीडब्ल्यूडी अफसरों की भी हेल्प लेगा। यहां टायलें लगाने का काम इन विभागों ने किया है। पेड़ों की जड़ों में टायलें लगने से न तो इन्हें पानी मिला और न ही सांसें। इसके चलते ये सूखने लग गए। डीएफओ के मुताबिक इन 2 पेड़ों के कत्ल का हालांकि सिर्फ यही एक कारण नहीं हैं, इसके अलावा अन्य कारणों पर भी जांच की जाएगी।

वकील का चीफ सेक्रेटरी को पत्र

इधर पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट के वकील एचसी अरोड़ा की तरफ से चीफ सेक्रेटरी को भेजे पत्र में बताया गया है कि यहां के कुछ दुकानदार अपनी दुकानों के आगे पार्किंग की जगह खुली करना चाहते हैं, लेकिन ये पेड़ उसमें अड़ंगा लगा रहे हैं। एचसी अरोड़ा के मुताबिक दशकों पुराने ये पेड़ है। ये पेड़ सोसाइटी से सम्मान, संभाल चाहते हैं न कि इनकी कत्ल।

आज जब पूरी दुनिया में ऑक्सीजन की कमी चल रही हैं तो ऐसे में इस तरह साजिश रच कर पेड़ों के कत्ल करने की योजना का पर्दाफाश करना बहुत जरूरी है, इसलिए सरकार जांच के आदेश जारी करे।

खबरें और भी हैं...