पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Patiala
  • Vocational Teachers Took Out A March From Leela Bhavan To YPS Chowk At Bus Stand Chowk And ETT Tet Pass, Seeking Employment

बुधवार को पटियाला सिटी धरनों के नाम रही:वोकेशनल अध्यापकों ने बस स्टैंड चौक और ईटीटी टेट पास बेरोजगारों ने लीला भवन से वाईपीएस चौक तक मार्च निकाल मांगा रोजगार

पटियाला7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर चारों तरफ से जाम, घंटों ट्रैफिक में फंसे रहे लोग

बुधवार को पटियाला सिटी धरनों के नाम रही। वोकेशनल अध्यापकों ने दोपहर 12 बजे से (खबर लिखे जाने तक) बस स्टैंड मेन चौक पर जाम लगा दिया। कच्चे व ठेका मुलाजिमों ने पहले 12 बजे से शाम 5 बजे तक रेलवे स्टेशन के आगे (बस स्टैंड ओवरब्रिज के नीचे) रोष प्रदर्शन किया और फिर माल रोड से होते हुए फव्वारा चौंक तक रोष मार्च निकाला। इधर बेरोजगार ईटीटी टेट पास अध्यापकों ने लीला भवन से वाईपीएस चौंक तक रोष मार्च निकाला।

इस बीच बेरोजगार ईटीटी टेट पास अध्यापकों ने 2 काम अलग किए। पहला मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का बेहरूपिया तैयार करके उसके हाथों अध्यापकों को डंडों से पिटवाया, दूसरा काम- वाईपीएस चौक पर कई डंडे रखकर इसे बेरोजगारों के लिए डांगा वाला चौक के पोस्टर लगाए। बेरोजगारों का दावा है कि गूगल पर किसी ने इस चौक के नाम पर बेरोजगार के लिए डांगा वाला चौक नाम लिख दिया हैं क्योंकि अब यहां हर चौथे दिन किसी ना किसी विभाग के बेरोजगारों के पुलिसया डंडे पड़ रहे हैं। इधर इन 3 बड़े प्रदर्शनों का असर यह रहा कि पूरा शहर जाम हो गया।

गुरुबख्श कॉलोनी से बस स्टैंड की तरफ आने वाले सारी ट्रैफिक वाया रेलवे स्टेशन (देसी मेहमानदारी से होकर) डाइवर्ट की गई। शहर के अंदर लाहौरी गेट से बस स्टैंड की तरफ आने वाली ट्रैफिक कैपिटल सिनेमा की तरफ से निकाली गई। इधर रेलवे स्टेशन के सामने ओवरब्रिज के नीचे कांट्रेक्ट वर्करों के धरने की वजह से बारादरी में से ट्रैफिक डाइवर्ट किया गया। जिसका असर शेरांवाला गेट तक दिखा और लोग जाम में फंसे रहे। इधर ईटीटी टेट पास अध्यापकों के धरने की वजह से लीला भवन, फव्वारा चौक और सेवा सिंह ठीकरीवाला चौक पर बुरी तरह जाम की स्थिति बनी रही।

कैप्टन के बहरूपिया के हाथों बेरोजगारों को डंडे मरवाते हुए सीएम आवास का घेराव
बेरोजगार ईटीटी टेट पास अध्यापक यूनियन ने दोपहर करीबन 1:30 बजे लीला भवन चौक से वाईपीएस चौक तक रोष मार्च निकाला। इस दौरान यूनियन ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बहरूपिए को तैयार करवा कर उसके हाथों बेरोजगारों को डंडे मरवाते हुए न्यू मोती बाग पैलेस का घेराव किया। अध्यापकों ने वाईपीएस चौक पर डंडे रखकर इस चौक को बेरोजगारों के लिए डांगों वाला चौक के पोस्टर भी लगवाए खबर लिखे जाने तक सैकड़ों बेरोजगार अध्यापक वाईपीएस चौक पर ही डटे हुए थे।

जिला प्रशासन इन्हें 27 जुलाई की सरकार के साथ पैनल मीटिंग का भरोसा दिलवा रहा है, लेकिन अध्यापक अब आर पार की लड़ाई के तहत रोजगार के लिखित भरोसे पर अड़े हुए हैं। यूनियन के राज्य प्रधान दीपक कंबोज, सीनियर उप प्रधान संदीप सामा, कुलदीप खोखर, निर्मल जीरा, सुखजीत नाभा, बलविंदर नाभा, राज सुखविंदर और सोनिया ने कहा कि वह पिछले कई महीनों से पटियाला में डटे हुए हैं और नौकरी लेकर ही यहां से जाएंगे।

27 को सरकार के साथ पैनल मीटिंग
तहसीलदार एचएस हुंदल ने बस स्टैंड चौक पर जाम लगाकर बैठे वोकेशनल अध्यापकों की 27 जुलाई को शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला, सेक्रेट्री एजुकेशन कृष्ण कुमार के साथ पैनल मीटिंग तय करवाई है। मीटिंग मिलने के बाद वोकेशनल अध्यापकों ने शाम करीबन 5 बजे बस स्टैंड चौक खाली कर दिया।

कंपनियां भगाओ-शिक्षा बचाओ रैली निकाली
44 दिनों से लगातार गुरुद्वारा श्री दुखनिवारण साहिब के पास पक्का मोर्चा लगाकर बैठे एनएसक्यूएफ वोकेशनल अध्यापकों ने बुधवार को यहां से वाया रेलवे स्टेशन होते हुए बस स्टैंड चौक तक कंपनियां भगाओ-शिक्षा बचाओ रैली निकाली। दोपहर 12 बजे वोकेशनल अध्यापकों ने घेरा बनाकर बस स्टैंड चौक पर जाम लगा दिया, जो शाम खबर लिखे जाने तक जारी था।

यूनियन राज्य प्रधान राय साहिब सिंह सिद्धू ने कहा कि जब तक सरकार उन्हें लिखित में कंपनियों के चुंगल से निकालकर शिक्षा विभाग में के अधीन करने का लिखित नोटिफिकेशन जारी नहीं करती तब तक वह यह धरना नहीं उठाएंगे। प्रदर्शन में प्रसिद्ध पंजाबी गायक हरिंदर संधू ने पहुंचकर वोकेशनल अध्यापकों को समर्थन दिया।

अध्यापकों ने कहा कि सरकार उनकी नहीं सुन रही है उन्हें मजबूरन बस स्टैंड चौक जाम करना पड़ा। बात यह रही कि 12 बजे से लेकर दोपहर 5 बजे तक प्रशासन से किसी ने अध्यापकों से बातचीत करने की कोशिश नहीं की। खबर लिखे जाने तक धरना जारी था।

ठेका मुलाजिमों का रेलवे स्टेशन के आगे धरना
आशा वर्कर, फैसिलिटेटर, मिड डे मील वर्कर, जंगलात वर्कर, सर्व शिक्षा अभियान और मिड डे मील के ठेके अाधारित दफ्तरी कर्मी व नॉन टीचिंग मुलाजिमों, एनएचएम के अधीन ठेके पर काम करती मल्टीपर्पज हेल्थ वर्कर और स्टाफ नर्स समेत सभी विभागों के कच्चे और कॉन्ट्रैक्ट मुलाजिमों ने रेलवे स्टेशन के आगे ओवरब्रिज के नीचे दोपहर 12 से शाम 4 बजे तक प्रदर्शन किया। करीबन 4:15 बजे यहां से फव्वारा चौक तक मार्च निकाला।

परमजीत कौर मान, लखविंदर कौर, बलवीर सिंह और प्रवीण शर्मा के नेतृत्व में मार्च निकाला। कहा कि सीएम ने घोषणापत्र में वादा किया था कि कांग्रेस सरकार बनते ही 27 हजार मुलाजिमों को रेगुलर करने वाले 2016 के नोटिफिकेशन की खामियों में संशोधन कर सरकार सभी कच्चे और ठेका मुलाजिमों को 2 महीने में पक्का कर देगी। तहसीलदार हरमीत सिंह हुंदल ने मुलाजिमों की मुख्यमंत्री के चीफ प्रिंसिपल सेक्रेट्री सुरेश कुमार, प्रमुख सचिव शिक्षा विभाग, जंगलात विभाग और सेहत विभाग के पैनल से 3 अगस्त की मीटिंग तय कराई।

खबरें और भी हैं...