जायजा:ब्लॉक रोपड़ में वायरस से 500 से 700 एकड़ धान प्रभावित

रोपड़10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
धान की फसल का जायजा लेते एसडीएम हरबंस सिंह व अन्य। - Dainik Bhaskar
धान की फसल का जायजा लेते एसडीएम हरबंस सिंह व अन्य।

डीसी रोपड़ डॉ. प्रीती यादव के निर्देश पर एसडीएम रोपड़ हरबंस सिंह ने खेतीबाड़ी व किसान भलाई विभाग रोपड़ के अधिकारियों के साथ गांव रणजीतपुरा, इंद्रपुरा व अन्य गांवों में ब्लैक स्ट्रिक वायरस से खराब हुई धान की फसल का जायजा लिया। उन्होंने बीमारी संबंधी जानकारी प्राप्त की और सरकार की ओर से जरूरी कार्रवाई करने का भरोसा दिया। किसानों द्वारा इस बीमारी संबंधी जुलाई के आखिर में कृषि माहिरों को जानकारी दी गई थी। पंजाब में पहली बार धान का इतना ज्यादा रकबा वायरस से प्रभावित हुआ है।

खेतीबाड़ी अफसर राकेश कुमार ने ध्यान में लाया कि गत दिनों के दौरान करवाए सर्वे में करीब 50 गांवों में इस वायरस से 500 से 700 एकड़ रकबा ब्लॉक रोपड़ में प्रभावित हुआ है और 60-70 एकड़ रकबे में किसानों की ओर से फसल को नष्ट कर दिया गया है।

विभाग की ओर से करवाए सर्वे में पाया गया कि इस वायरस का ज्यादा हमला धान का लंबा समय लेने वाले किस्मों जैसे पीआर 121, 128, 130, 131 तथा पूसा 44 पर ज्यादा आया है। जबकि पीआर 126 किस्म की बिजाई लेट की गई है। इस पर वायरस का हमला नहीं हुआ है। पहाड़ी और दरिया के साथ लगते रकबे में इस वायरस का हमला पाया गया है।

उन्होंने बताया कि इस वायरस से प्रभावित पौधे छोटे, पत्ते नोकदार और जड़ों का विकास कम हुआ है। उन्होंने किसानों को सलाह दी कि जहां इस वायरस का हमला हुआ है, वहां किसी भी प्रकार की फंगस नाशक सप्रे न की जाए और इन कीड़े मकौड़ों से बचाव के लिए 80 ग्राम डाईनोरोजन या 100 ग्राम पायमैटोरोजिन को 100 लीटर पानी में मिलाकर प्रति एकड़ सप्रे किया जाए। इससे इस बीमारी को आगे बढ़ने से रोका जा सके।

खबरें और भी हैं...