सिविल सर्जन ने बताया:गर्मी में तेज धूप और लू से बच्चों को बचाकर रखें

रोपड़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

समय से पहले गर्मी बढ़ने के कारण तेज धूप और लू से बचाव हित बच्चों का विशेष ध्यान रखा जाए। इस संबंधी लोगों से अपील करते सिविल सर्जन डॉ. परमिंदर कुमार ने कहा कि इस साल गर्मी के जल्दी बढ़ जाने के कारण हम सबको गर्मी और लू से बचाव के लिए बुजुर्गों और बच्चों के प्रति संवेदनशील होने की जरूरत है।

गर्मी और लू के साथ संबंधित बीमारी के लक्षणों का जिक्र करते उन्होंने बताया कि बेहोशी, मासपेशियां में जकड़न, चिड़चिड़ापन, सिरदर्द, ज्यादा पसीना आना, चक्कर आना, जीभ मतलाना, उलटी आना, सांस और दिल की धड़कण का तेज होना, शरीर का तापमान ज्यादा रहना आदि गर्मी या लू लगने की निशानियां हो सकतीं हैं।

यदि ऐसा कोई लक्षण नजर आता है तो प्राथमिक सहायता हित बच्चे को छाया में ले जाएं, उसके शरीर के सभी कपड़े ढीले कर दे, पंखों के प्रयोग के साथ हवा थोड़ी तेज करें, यदि बच्चा थोड़ा चुस्त या होश में है तो उसे ठंडा पानी पिलाएं, यदि बच्चे को उलटी आ रही हैं तो उसे करवट देकर लिटाएं जिससे गले में कुछ न फंसे, बेहोशी के हालत में उसको कुछ भी खाने को न दें।

खबरें और भी हैं...