सीबीएसई की पहल:अब सवालों को रटना नहीं, समझ कर देना हाेगा जवाब

रोपड़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एग्जाम इवैल्यूएशन का क्राइटेरिया जारी- 9वीं से 12वीं में 10% बढ़ेंगे कंपिटेंसी बेस्ड सवाल

नई एजुकेशन पॉलिसी के तहत सीबीएसई का फोकस कंपीटेंसी बेस्ड लर्निंग पर है। इसी कड़ी में बोर्ड ने 2022-23 के बोर्ड एग्जाम की इवैल्यूएशन के लिए क्राइटेरिया जारी किया है। अगले साल से कंपीटेंसी बेस्ड सवालों की संख्या 10 प्रतिशत बढ़ाई जाएगी। बोर्ड ने स्कूलों को सर्कुलर जारी करके इसकी सूचना दे दी है।

सर्कुलर के मुताबिक 21वीं सदी की समस्याओं को सुलझाने और वास्तविक जीवन में उनको अप्लाई कर पाने के उद्देश्य से इन प्रश्नों की संख्या बढ़ाई जाएगी। अब बच्चों को रटना पूरी तरह छोड़ना होगा। इन प्रश्नों के उत्तर वो तभी दे सकेंगे, जब उनका कांसेप्ट क्लियर हो।

नौवीं और दसवीं में अब 40% परेशान कंपीटेंसी बेस्ड होंगे, जबकि 11वीं और 12वीं में 30 फीसदी। अगर पिछले साल 2021-22 की तुलना करें तो नौवीं से बारहवीं तक 10-10 फीसदी बढ़ाए गए हैं। इंटरनल एग्जामिनेशन के पैटर्न में कोई बदलाव नहीं किया गया है। बोर्ड ने पहले ही 2022 के बोर्ड परीक्षा का पैटर्न जारी कर दिया है।

परीक्षा एक बार होगी और 100 फीसदी सिलेबस से होगी। कोविड को लेकर 2021 की बोर्ड परीक्षा की 2 टर्म में 50-50 फ़ीसदी सिलेबस को बांटा गया था। साल 2022-23 में नौवीं-दसवीं में कुल 40% कंपीटेंसी बेस्ट प्रश्न पूछे जाएंगे जो कि एमसीक्यू, केस बेस्ड सवाल, सोर्स इंटीग्रेटेड सवाल और अन्य रूप के हो सकते हैं।

ऑब्जेक्टिव टाइप के सवाल 20 प्रतिशत होंगे और अन्य शॉर्ट आंसर, लोंग आंसर के सवाल 40 फीसदी होंगे। वही 11वीं- 12वीं में 30% सवाल कंपीटेंसी बेस्ड होंगे। यह सवाल एमसीक्यू, केस बेस्ट या सोर्स इंटीग्रेटेड या अन्य रूप से होंगे। ऑब्जेक्टिव टाइप के 20 फीसदी और शॉर्ट आंसर लोंग आंसर से सवाल 50 फीसदी पूछे जाएंगे।

आईसीएसई बोर्ड एग्जाम का रिवाइज्ड सिलेबस जारी, एक बार होगी परीक्षा

आईसीएसई बोर्ड 2023 की आईसीएसई और आईएससी की परीक्षा एक बार आयोजित होगी। परीक्षा फरवरी-मार्च के महीने में होगी। बोर्ड ने इस संबंधी रिवाइज्ड सिलेबस जारी कर दिया है। बोर्ड की वेबसाइट पर विषयवार रिवाइज सिलेबस जारी किया गया है।

बोर्ड की वेबसाइट पर पब्लिकेशन सेक्शन के अंडर सिलेबस प्राप्त किया जा सकता है। स्कूलों से कहा है कि इसके अनुसार अब वह एकेडमिक कैलेंडर को तैयार कर सकते हैं ताकि एग्जाम के लिए स्टूडेंट्स को तैयार किया जा सके।

खबरें और भी हैं...